ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देश'हम नामर्द नहीं हैं' महाराष्ट्र में सियासी बवाल के बीच संजय राउत की फिर खुली चेतावनी

'हम नामर्द नहीं हैं' महाराष्ट्र में सियासी बवाल के बीच संजय राउत की फिर खुली चेतावनी

हाल ही में सामने आई तोड़फोड़ की खबरों पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, 'लोगों का गुस्सा है। यह गुस्सा रहेगा और गुस्सा रहना भी चाहिए। यह शिवसेना आग है। हम इस आग को कभी बुझने नहीं देते।

'हम नामर्द नहीं हैं' महाराष्ट्र में सियासी बवाल के बीच संजय राउत की फिर खुली चेतावनी
Nisarg Dixitलाइव हिंदुस्तान,मुंबईSat, 25 Jun 2022 12:51 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच हिंसा का दौर भी शुरू हो गया है। खबर है कि शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने पुणे समेत कई हिस्सों में तोड़फोड़ शुरू कर दी है। वहीं, पार्टी के सांसद संजय राउत ने भी एक बार फिर सख्त लहजे में बागियों को सलाह दी है। उन्होंने कहा कि पार्टी हाईजैक करने की कोशिश पर स्थिति बिगड़ेगी। खबर है कि केवल शिवसेना से ही शिंदे खेमे में 38 विधायक शामिल हो चुके हैं।

शनिवार को राउत ने कहा, 'अभी शुरुआत भी नहीं हुई है। हमने किसी को कुछ बोला ही नहीं है, लोग अपने आप कुछ करने जा रहे हैं। और बात रही डर की तो डर तो रहना ही चाहिए।' शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने पुणे में पार्टी विधायक तानाजी सावंत के दफ्तर पर हमला बोल दिया। सामने आई तस्वीरों में देखा जा रहा है कि विधायक के कार्यालय में जमकर तोड़फोड़ की गई। सावंत भी गुवाहाटी में शिंदे कैंप के साथ मौजूद हैं।

विधायकों से फिर घर वापसी की अपील
राउत ने बागी विधायकों से घर वापसी के लिए कहा है। उन्होंने कहा, 'दर दर की ठोकरें खाने की जरूरत क्या।' साथ ही उन्होंने चेतावनी भी दी, 'बालासाहब के भक्त हैं तो उनका मंदिर बनाओ। पार्टी को हाईजैक करने की कोशिश की तो तलवार से तलवार भिड़ेंगी, बंदूक से बंदूक भिड़ेंगी।' खास बात है कि गुवाहाटी में ठहरा बागी खेमा लगातार दिवंगत बाला साहब ठाकरे के समर्थन में बात कर रहा है। 

उन्होंने कहा, 'शिवसेना के कार्यकर्ताओं का गुस्सा आप देखते हो, यह आज का गुस्सा नहीं है। 56 साल से शिवसेना की जो ताकत और ऊर्जा है, वह गुस्सा ही है। हम लोग जो जीते हैं, मरते हैं, सांस लेते हैं। हर सांस में हमारा गुस्सा होता है, एक चिढ़ होती है।'

हाल ही में सामने आई तोड़फोड़ की खबरों पर राउत ने कहा, 'लोगों का गुस्सा है। यह गुस्सा रहेगा और गुस्सा रहना भी चाहिए। यह शिवसेना आग है। हम इस आग को कभी बुझने नहीं देते। बाला साहब ठाकरे ने हमसे कहा है कि राख नहीं होनी चाहिए।'

इधर, संकट में भारतीय जनता पार्टी की भूमिका को लेकर शिवसेना सांसद ने कहा, 'अगर आप हमारे विधायकों को इस तरह से किडनैप करेंगे। उनकी व्यवस्था करेंगे। आपके लोग वहां सुरक्षा में बैठेंगे। और हमारा गुस्सा हम नहीं निकालेंगे तो कैसे होगा। हम नामर्द हैं क्या। हम नामर्द नहीं है। ज्यादा से ज्यादा सत्ता चली जाएगी। सत्ता जाती है सत्ता आती है। कौन कहता है मोदी जी 2024 में आएंगे। नहीं भी आ सकते...'

सुरक्षा की चिंता
शिंदे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल और पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा है। उन्होंने 'दुर्भावनापूण तरीके से 38 विधायकों के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा वापस' लिए जाने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट किया, 'सरकार उनकी और उनके परिवार की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है।' वहीं, राउत ने कहा था, 'आप एक विधायक हैं इसलिए आपको सुरक्षा मिली है। आपके परिवार के सदस्यों को वैसी ही सुरक्षा मुहैया नहीं कराई जा सकती।'

साथ ही उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को भी सलाह दी है, 'हमें पता है कि एक बार विधायक मुंबई वापस आएंगे तो वे हमारे पक्ष में आ जाएंगे। मैं देवेंद्र फडणवीस को सलाह देता हूं कि इस मामले में न पड़े और जो कुछ गरीमा बची है उसे बचाएं। हम एक-दूसरे को चुनाव में देखेंगे।'

epaper