DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  महाराष्ट्र चुनाव: एकनाथ खड़से को शांत रखने के लिए बीजेपी ने चल दिया यह दांव

देश महाराष्ट्र चुनाव: एकनाथ खड़से को शांत रखने के लिए बीजेपी ने चल दिया यह दांव

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Shankar
Fri, 04 Oct 2019 10:14 AM
 महाराष्ट्र चुनाव: एकनाथ खड़से को शांत रखने के लिए बीजेपी ने चल दिया यह दांव

भाजपा ने महाराष्ट्र के अपने वरिष्ठ नेता एकनाथ खड़से की बेटी को उनके मुक्ताईनगर निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है। पार्टी ने राज्य विधानसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी कर दी है। रोहिणी खड़से को खड़ा करने का फैसला यह दिखाता है कि पार्टी उनके पिता को शांत करने में सफल हो गयी है जो राज्य में सबसे वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं लेकिन देवेंद्र फड़णवीस सरकार में मंत्री रहते हुए अनियमितताओं के आरोपों के बाद से वो हाशिये पर चल रहे थे।

उन्हें 2016 में राजस्व मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। पार्टी सूत्रों ने बताया कि खड़से को यह साफ बता दिया गया है कि उन्हें इस बार टिकट नहीं दिया जाएगा। महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन में भाजपा और शिवसेना अहम घटक दल हैं। राज्य में 21 अक्टूबर को चुनाव होने हैं। 

महाराष्ट्र विधानसभा में सीटों की संख्या 288 है। इसमें 234 सामान्य सीटें हैं, जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए क्रमशः 29 और 25 सीटें आरक्षित हैं। चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को एक ही चरण में चुनाव कराने की घोषणा की है। मतों की गिनती 24 अक्ट्रबर को होगी। लोकसभा चुनाव 2019 में भारी बहुमत के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सत्ता में वापसी के बाद यह पहला विधानसभा चुनाव है। महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल नौ नवंबर को खत्म हो रहा है।

साल 2014 में महाराष्ट्र विधानसभा की 288 विधानसभा सीटों के लिए हुए चुनावों में भारतीय जनता पार्टी 122 सीटें हासिल कर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी। भाजपा ने पहली बार महाराष्ट्र में इतनी सीटें हासिल की थीं। वहीं, कांग्रेस 42 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर खिसक गई। इसके अलावा, शिवसेना 63 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर रहने वाली पार्टी थी। शरद पवार की राकांपा को 41 सीटें मिली थीं।

2014 में 63.08 प्रतिशत वोट डाले गए थे। कुल 52691758 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। जिसमें 28383004 पुरुष, 24308397 महिला और 357 थर्ड जेंडर वोटर्स शामिल थे। पिछले विधानसभा चुनाव में 63.08 प्रतिशत वोट डाले गए थे। 

संबंधित खबरें