ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशमहिला एडिटर ने कराई थी कैमरामैन की हत्या, बस से की गई गिरफ्तार; जानें क्या था मामला

महिला एडिटर ने कराई थी कैमरामैन की हत्या, बस से की गई गिरफ्तार; जानें क्या था मामला

ओडिशा में एक स्थानीय वेव चैनल में काम करने वाली 28 साल के कैमरामैन की हत्या के मामले उसी चैनल की महिला एडिटर को गिरफ्तार किया गया है। 45 दिनों से अधिक समय तक फरार रहने वाली महिला एडिटर पर हत्या

महिला एडिटर ने कराई थी कैमरामैन की हत्या, बस से की गई गिरफ्तार; जानें क्या था मामला
Ashutosh Rayदेवव्रत मोहंती,भुवनेश्वरMon, 28 Mar 2022 05:14 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

ओडिशा में एक स्थानीय वेव चैनल में काम करने वाली 28 साल के कैमरामैन की हत्या के मामले उसी चैनल की महिला एडिटर को गिरफ्तार किया गया है। 45 दिनों से अधिक समय तक फरार रहने वाली महिला एडिटर पर हत्या का मास्टरमाइंड होने का आरोप हैं। 7 फरवरी से लापता कैमरामैन का शव 12 मार्च को एक खेत से बरामद हुआ था।

गिरफ्तारी को लेकर पुलिस अधिकारियों ने कहा कि ओडिया पाक्षिक (15 दिन में एक बार छपने वाली) और संपूर्ण न्यूज नाम के वेब चैनल की एडिटर शर्मिष्ठा राउत को सीआईडी और स्थानीय पुलिस की टीम ने भद्रक टाउन के पास एक बस से गिरफ्तार किया है। वह भुवनेश्वर से कोलाकात जा रही थी। उसके साथ उसकी सहयोगी झुना भोई को भी गिरफ्तार किया गया है।

शर्मिष्ठा राउत और झुना भोई को सोमवार को भद्रक के चांदबली में कोर्ट में पेश किया जाएगा। सीआईडी ​​के अतिरिक्त महानिदेशक संजीव पांडा ने कहा, हम मामले के सिलसिले में गिरफ्तार सात आरोपियों की 10 दिन की पुलिस रिमांड की मांग करेंगे। दरअसल, संपूर्ण न्यूज का 28 वर्षीय फोटोग्राफर मानस स्वैन सात फरवरी को उस समय लापता हो गया था जब वह एक शादी समारोह की शूटिंग के लिए भद्रक जिले के चांदबली इलाके में गया था।

उसके परिवार के सदस्यों 14 फरवरी को नयागढ़ जिले के चांदबली में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, जिसके बाद भारतीय दंड संहिता की धारा 373 और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद 12 मार्च को स्वैन का क्षत-विक्षत शव नयागढ़ जिले के एक धान के खेत से बरामद हुआ था।

पिछले हफ्ते राज्य सीआईडी ​​को मामला सौंपे जाने से पहले, भद्रक जिले की पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया था और राउत की तलाश की तलास हो रही थी। जिन्होंने कथित तौर पर स्वैन के अपहरण, हत्या और बाद में शव को ठिकाने लगाने की साजिश रची थी। पुलिस का मानना ​है कि स्वैन की हत्या एक मेमोरी चिप को लेकर की गई थी जिसे उसने राउत को सौंपने से इनकार कर दिया था।
 

epaper