Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशOmicron Variant के खतरे के बीच बड़ी राहत, एक दिन में मिले महज 6,990 नए केस; एक्टिव मामले भी सिर्फ 1 लाख

Omicron Variant के खतरे के बीच बड़ी राहत, एक दिन में मिले महज 6,990 नए केस; एक्टिव मामले भी सिर्फ 1 लाख

लाइव हिन्दुस्तान ,नई दिल्लीSurya Prakash
Tue, 30 Nov 2021 10:29 AM
Omicron Variant के खतरे के बीच बड़ी राहत, एक दिन में मिले महज 6,990 नए केस; एक्टिव मामले भी सिर्फ 1 लाख

इस खबर को सुनें

दुनिया भर में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के बढ़ते खतरे के बीच भारत में बड़ी राहत की खबर है। पिछले एक दिन में देश में महज 6,990 नए केस ही मिले हैं, जो बीते 551 दिनों का सबसे कम आंकड़ा है। इसके अलावा 10,116 लोग कोरोना संक्रमण से रिकवर हुए हैं। इसके चलते एक्टिव मामलों में तेजी से कमी देखने को मिली है। अब देश भर में कुल एक्टिव केसों की संख्या 1 लाख ही रह गई है। 546 दिन बाद ऐसा देखने को मिला है, जब एक्टिव केसों की संख्या इतनी कम हुई है। फेस्टिव सीजन गुजरने और दुनिया भर में ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए भारत के लिए यह राहत की बात है।

फिलहाल एक्टिव केसों का प्रतिशत देखें तो अब यह महज 0.29 पर्सेंट ही रह गया है, जो बीते साल मार्च के बाद से अब तक का सबसे निचला स्तर है। इसके अलावा डेली पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो यह 0.69 पर्सेंट ही है और लगातार करीब दो महीने से 2 फीसदी से कम बना हुआ है। एक तरफ देश में कोरोना वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज है तो वहीं नए केसों में कमी लगातार जारी है। इससे देश के कोरोना संकट से उबरने की उम्मीदें लगातार बढ़ी हैं। हालांकि ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर भारत में भी हलचल तेज है और केंद्र एवं राज्य सरकारें सतर्कता के लिए उपाय कर रही हैं। 

आज ही केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव की राज्य सरकारों के साथ ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर मीटिंग होने जा रही है। इस बैठक में कोरोना के इस नए वैरिएंट से निपटने के उपायों पर बात हो सकती है। बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से हाल ही में इंटरनेशनल ट्रैवलर्स के लिए नई गाइडलाइंस जारी की गई हैं। 1 दिसंबर से लागू होने वाली इन गाइडलाइंस के मुताबिक कोई भी यात्री भारत तभी आ सकता है, जब उसके पास 72 घंटे के दौरान की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट हो। इसके अलावा उसे पिछले 14 दिनों की अपनी ट्रैवल हिस्ट्री भी बतानी होगी। यही नहीं हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद भी उनकी टेस्टिंग होगी और क्वारेंटाइन भी रहना होगा।

epaper

संबंधित खबरें