Thursday, January 27, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशओमिक्रॉन के डर से बूस्टर डोज लेने की मची होड़, विदेश जाकर तीसरी खुराक ले रहे अमीर भारतीय

ओमिक्रॉन के डर से बूस्टर डोज लेने की मची होड़, विदेश जाकर तीसरी खुराक ले रहे अमीर भारतीय

हिन्दुस्तान,नई दिल्ली।Himanshu Jha
Thu, 09 Dec 2021 08:02 AM
ओमिक्रॉन के डर से बूस्टर डोज लेने की मची होड़, विदेश जाकर तीसरी खुराक ले रहे अमीर भारतीय

इस खबर को सुनें

अमेरिका में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के डर से बूस्टर टीका लगवाने वालों की संख्या में रिकॉर्ड बढ़ोतरी दर्ज की गई है। अमेरिका में पिछले सप्ताह 70 लाख लोगों ने बूस्टर टीका लगवाया। ओमिक्रॉन का पहला मामला आने के बाद गत 25 नवंबर से रोजाना करीब 10 लाख अमेरिकी नागरिक बूस्टर टीका लगवा रहे हैं। यह दर इसके पहले के मुकाबले 12.5 फीसदी अधिक है।

व्हाइट हाउस में कोविड-19 मामले के संयोजक जेज जींट्स के मुताबिक, अमेरिका में पिछले हफ्ते 125 लाख टीके लगे जिसमें से 58 फीसदी से अधिक बूस्टर टीके थे। सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशंस (सीडीसी) के मुताबिक, 4.7 करोड़ अमेरिकी अब तक बूस्टर टीका लगवा चुके हैं जबकि अमेरिका में लगाए गए कुल टीकों की संख्या 47.3 करोड़ है।

सीडीसी के मुताबिक, दोनों टीका लगवाने वाले में करीब एक चौथाई लोग ऐसे हैं जिन्होंने बूस्टर डोज लगवाई है। सीडीसी के विशेषज्ञ डॉ. विलियम शैफनर के मुताबिक, सर्दी की छुट्टियों के दौरान लोग अपने परिवार से मिलने के मद्देनजर भी बूस्टर टीका लगवा रहे हैं। ओमिक्रॉन को लेकर बाइडन प्रशासन की रणनीति का एक अहम हिस्सा बूस्टर टीका है। शुरुआती अध्ययन के मुताबिक, ओमिक्रॉन वेरिएंट कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के मुकाबले बहुत ज्यादा संक्रामक है लेकिन डेल्टा के मुकाबले ओमिक्रॉन अधिक प्राणघातक है या नहीं, इस संबंध में डाटा जुटाया जा रहा है। कुछ शुरुआती मामलों से ऐसा लगता है कि ओमिक्रॉन संक्रमण पर अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत कम पड़ेगी।

ब्रिटेन में बूस्टर टीके की मांग बढ़ी: ओमिक्रॉन के उदय से पहले ब्रिटेन में बूस्टर टीके की मांग कम थी लेकिन अब मांग बढ़ गई है। ब्रिटेन ने सभी वयस्कों के लिए बूस्टर टीके की अनुमति दे दी है लेकिन लाखों लोगों को इसका इंतजार करना पड़ रहा है। ब्रिटेन में अभी 40 से 49 साल की उम्र वालों के लिए दूसरी और तीसरी बूस्टर खुराक के बीच छह महीने का अंतराल रखने का नियम है। इसी तरह 30 से 39 साल वालों को क्रिसमस के बाद बूस्टर टीका लगेगा लेकिन 18 से 29 साल वालों को जनवरी से यह टीका लगेगा। अब तक करीब 10 करोड़ कोरोना रोधी टीके लगाए गए हैं। दोनों टीके लगवा चुके करीब दो करोड़ लोगों ने बूस्टर टीका लगवाया है। ब्रिटेन में ओमिक्रॉन के 100 से अधिक नए मामले मिलने से इससे संक्रमित लोगों की कुल संख्या 437 हो गई है।

जापान में तीसरी खुराक देने का अभियान: ओमिक्रॉन की रफ्तार को देखते हुए जापान ने अपने सभी स्वास्थ्यकर्मियों और चिकित्सकों को बुधवार से बूस्टर खुराक देने का अभियान शुरू किया गया है। अभी जापान में दूसरी खुराक के बाद टीके की तीसरी बूस्टर खुराक लेने के बीच आठ महीने का अंतराल रखना जरूरी है। लेकिन सरकार अब इस अवधि को कम करने पर विचार कर रही है। 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को मुफ्त में टीके लगाए जाएंगे। जापान में अभी ओमिक्रॉन का एक मामला सामने आया है।

अमीर भारतीय विदेश जाकर ले रहे बूस्टर खुराक: सरकार से अभी तक अनुमति नहीं मिलने के कारण अमीर भारतीय अमेरिका, ब्रिटेन और दुबई जाकर बूस्टर टीका लगवा रहे हैं। भारत में ओमिक्रॉन के खतरे से निपटने के लिए टीके की बूस्टर खुराक की मांग जोर पकड़ने लगी है। महाराष्ट्र के कई मंत्रियों समेत इंडियन मेडिकल एसोसिएशन पहले ही केंद्र सरकार को पत्र लिखकर सभी स्वास्थ्यकर्मियों को बूस्टर खुराक देने का अनुरोध कर चुका है। आईएमए, पुणे चैप्टर के डॉ. संजय पाटिल के मुताबिक, अब तक के अध्ययन से पता चला है कि एक समय के बाद टीके का असर काफी कम हो जाता है।

epaper

संबंधित खबरें