DA Image
1 जून, 2020|9:08|IST

अगली स्टोरी

कोरोना के डर से आत्महत्या करने वाले पति-पत्नी का पोस्टमॉर्टम करने से डॉक्टरों ने किया इनकार, जानें सुसाइड नोट में क्या लिखा

पंजाब के अमृतसर में कोरोना वायरस होने की आशंका से एक दंपति ने आत्महत्या कर ली। डॉक्टरों ने इनके शवों का पोस्टमॉर्टम करने से इनकार कर दिया है।  घटना अमृतसर के बाबा बकाला के सठियाला गांव की है। मृतकों के नाम गुरजिंदर कौर और बलविंदर सिंह हैं। पति की उम्र 65 साल थी और पत्नी 63 वर्ष की थी। उन्होंने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि हम कोरोना वायरस के कारण नहीं मरना चाहते हैं। हमें कोरोना से टेंशन हो गई थी। 

कोरोना के भय से युवक ने की खुदकुशी

झारखंड की राजधानी रांची के अशोक नगर में एक युवक ने कोरोना से बीमार होने की आशंका में फंदे से झूलकर आत्महत्या कर ली। घटना गुरुवार देर रात की बतायी जा रही है। मृतक का नाम पप्पू कुमार सिंह है और वह मूल रूप से बिहार के भोजपुर जिले के पीरो का रहने वाला है। वर्तमान में वह अशोक नगर रोड नंबर चार में निखिल रंजन नामक व्यक्ति के मकान में किराए पर रहता था। पप्पू ऑटो चला कर परिवार का पालन पोषण करता था।

सूचना मिलने के बाद शुक्रवार की सुबह अरगोड़ा पुलिस मौके पर पहुंची। पप्पू का शव बरामदे के ग्रील में फंदे से झूलता हुआ मिला है। शव का पंचनामा करने के बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेज दिया है। मकान की तलाशी के दौरान पुलिस ने पप्पू के कमरे से राशन के सामान के अलावा दस हजार रुपए नगद बरामद किया है। साथ ही पुलिस को उसके घर से बना हुआ खाना भी मिला। पुलिस ने आशंका जतायी है कि रात में उसने खाना भी नहीं खाया है। अरगोड़ा थानेदार विनोद कुमार ने बताया कि पप्पू मानसिक रूप से बीमार था और उसका इलाज रिनपास में भी चल रहा था। कोरोना वायरस के खतरे को लेकर वह काफी डिप्रेशन में था। इसलिए उसने आत्महत्या की होगी। मामले में पुलिस ने मकान मालिक निखिल के बयान पर यूडी केस दर्ज किया है।

तनाव में रात मे नहीं खाया था खाना
मकान मालिक ने पुलिस को बताया कि पप्पू ही उनके घर का सारा काम करता था। मकान के पीछे साइड उसे एक कमरा दिया गया था। इसमें वह अकेले रहता था। कुछ दिनों से पप्पू काफी तनाव में था। पप्पू कहता था कि वह ऑटो चलाता है। कई तरह के यात्री उसके ऑटो में सफर करते हैं। कौन जाने किस यात्री को कोरोना बीमारी रही होगी। ऐसे में उसे भी कहीं कोरोना बीमारी नहीं हो जाए। उन्होंने आशंका जतायी है कि इसी तनाव के कारण ही उसने आत्महत्या की होगी। मकान मालिक ने यह भी बताया कि बुधवार की रात उसने खाना भी नहीं खाया था।

उठाने गए थे मकान मालिक
निखिल ने पुलिस को बताया कि पप्पू सुबह ही उठकर बाहर निकल जाता था। शुक्रवार को काफी देर तक वह बाहर नहीं निकला। जब वह उसे बुलाने के लिए गये तब देखा कि बरामदे की ग्रील में गमछा से पप्पू झूल रहा है। इसके बाद उन्होंने अरगोड़ा पुलिस को सूचना दी।

कैसे फैलता है कोरोना
झारखंड में कोरोना के नोडल अफसर डॉ ब्रजेश मिश्रा कहते हैं अगर आप का दुकानदार कोरोना से पीड़ित है तो उसके द्वारा दिए गए रुपए या उसके द्वारा स्वैप करने के बाद लौटाया गया आपके एटीएम कार्ड से भी कोरोना हो सकता है। मरीज द्वारा छूए गए टच स्क्रीन या दरवाजे की कुंडी को छूने के बाद उसी हाथ से अपनी नाक, आंख छूने से भी कोरोना हो सकता है। मरीज के छुए हुए सामान छूने, हाथ मिलाने और मरीज की छींक या खांसी के छींटे पड़ने से कोरोना हो सकता है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Doctors refuse to do postmortem of husband and wife committing suicide due to fear of corona know what written in the suicide note