ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश घाटी के बदलते हालात, विस्थापित कश्मीरी ने 32 साल बाद डाला वोट; कुछ यूं जताई खुशी

घाटी के बदलते हालात, विस्थापित कश्मीरी ने 32 साल बाद डाला वोट; कुछ यूं जताई खुशी

मतदान केंद्र पर वोट डालने के बाद सराफ ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत की। उन्होंने बताया, 'मैंने 32 साल बाद कश्मीर में वोट डाला है। मैं अल्पसंख्यक समुदाय से हूं जो आमतौर पर यहां नहीं आता है।

 घाटी के बदलते हालात, विस्थापित कश्मीरी ने 32 साल बाद डाला वोट; कुछ यूं जताई खुशी
displaced kashmiri pandit voting after 32 years
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,श्रीनगरSat, 25 May 2024 07:38 PM
ऐप पर पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग-राजौरी लोकसभा सीट के लिए शनिवार को बड़ी संख्या में लोग मतदान करने निकले। रिपोर्ट के मुताबिक, दोपहर तीन बजे तक 18.36 लाख मतदाताओं में से लगभग 44.88 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वोट डालने आए विस्थापित कश्मीरी पंडित वीर सराफ काफी उत्साहित दिखे। खास बात यह रही कि 32 साल बाद उन्हें वोट डालने का मौका मिला। इसे लेकर उन्होंने खुशी जताई और कहा कि कश्मीर के बदलते हालात ने उन्हें कश्मीर आकर वोट करने के लिए प्रेरित किया।

अनंतनाग में मतदान केंद्र पर अपना वोट डालने के बाद सराफ ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत की। उन्होंने बताया, 'मैंने 32 साल बाद कश्मीर में वोट डाला है। मैं अल्पसंख्यक समुदाय से हूं जो आमतौर पर यहां नहीं आता है। मगर, बीते 10 बरसों में कश्मीर में हालात बदले हैं। इसलिए कश्मीर आकर वोट डालने के लिए मैं प्रेरित हुआ।' उन्होंने कहा कि अपनी मातृभूमि पर वोट डालना सुखद अनुभव रहा। यह मेरे लिए खास जगह है। हम अपनी मातृभूमि की पूजा करते रहे हैं। सराफ ने कहा कि घाटी में जो बदलाव देख हुआ है, उससे वाकई हमें खुशी मिलती है। 

कैसे जम्मू-कश्मीर का यह पहला बड़ा चुनाव
बता दें कि अत्यधिक गर्मी के बावजूद पहली बार मतदान करने वाले सहित अन्य मतदाताओं को उत्साह के साथ कतारों में खड़े देखा गया। अनंतनाग-राजौरी संसदीय क्षेत्र के 2,338 मतदान केंद्रों पर मतदान आज सुबह 7 बजे शुरू हुआ जो शाम 6 बजे समाप्त होगा। अगस्त 2019 में अनुच्छेद 370 को निरस्त होने के बाद से 2024 का लोकसभा चुनाव जम्मू-कश्मीर का पहला बड़ा चुनाव है। इस संसदीय क्षेत्र से 20 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। इनमें से प्रमुख उम्मीदवारों में पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रभावशाली गुर्जर नेता मेन अल्टा, अपनी पार्टी के जफर मन्हास और डेमोक्रेटिक प्रोग्रेस आजाद पार्टी के मोहम्मद सलीम शामिल हैं।