DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में रिकॉर्ड गर्मी के बाद हल्की बूंदाबांदी से राहत, केरल में भारी बारिश से जलस्तर बढ़ा

Rain in Delhi: दिल्ली के कुछ इलाकों में मंगलवार सुबह हल्की बारिश होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली। इससे पहले सोमवार को दिल्ली का तापमान रिकॉर्ड स्तर 48 डिग्री पर पहुंच गया था, वहीं, उत्तर भारत के कई जगहों पर 50 डिग्री के आसपास बना रहा था। जून में दिल्ली के इतिहास में सोमवार को गर्मी ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे। 48 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ 10 जून, 2019 दिल्ली के इतिहास में इस महीने का सबसे गर्म दिन रहा। इससे पहले नौ जून, 2014 को पालम में सबसे ज्यादा 47.8 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था।

ये भी पढ़ें: मॉनसून से पहले कई राज्यों में तेज बारिश, दिल्ली में पारा 46 के पार

वहीं, केरल में मॉनसून के प्रवेश के बाद भारी बारिश के कारण तिरवनंतपुरम जिले के अरुविक्कार बांध का एक द्वार सोमवार देर रात खोल दिया गया। जल प्राधिकरण के सूत्रों के अनुसार भारी बारिश से जलस्तर बढकर 46.50 फुट तक पहुंच गया जिसके बाद बांध के दरवाजे को  खोला गया। सूत्रों के अनुसार करमना नदी के किनारे रहने वाले लोगों को जल स्तर बढ़ने को लेकर चेतावनी दी जा रही है। केरल में अगले 24 घंटों में बारिश के आसार हैं। 

इसके अलावा गुजरात के बारे में मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण अगले कुछ दिनों में गुजरात के विभिन्न हिस्सों खासकर तटीय जिलों में भारी बारिश हो सकती है। विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि अरब सागर में बने कम दबाव के क्षेत्र के गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल जाने का अनुमान है। उन्होंने कहा कि मछुआरों को अगले कुछ दिनों में समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है और बंदरगाहों को खतरे का संकेत देने को कहा गया है। राज्य मौसम विभाग के निदेशक जयंत सरकार ने यहां संवाददाताओं से कहा कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण 13 और 14 जून को सौराष्ट्र तथा कच्छ में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

ये भी पढ़ें: केरल में मानसून ने पकड़ा जोर, कई हिस्सों में बारिश, मछुआरों को 13 जून तक समुद्र में ना जाने की सलाह

ओडिशा में मॉनसून के देरी से पहुंचने की संभावना

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के ओडिशा में देरी से पहुंचने की संभावना है। केरल में यह करीब एक सप्ताह की देरी से शनिवार को पहुंचा था। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एच आर बिस्वास ने बताया कि मानसून के अगले चार-पांच दिन में ओडिशा पहुंचने की संभावना नहीं है और इसके आगमन के बारे में अभी किसी स्पष्ट तारीख की घोषणा नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि मॉनसून आम तौर पर 10 जून तक ओडिशा में दस्तक देता है। निदेशक ने कहा, 'अभी तक ओडिशा में मॉनसून के पहुंचने के कोई संकेत नहीं है और एक या दो दिन में तस्वीर साफ हो पाएगी। ओडिशा के कई हिस्सों में पिछले कुछ दिनों में स्थानीय मौसम स्थितियों के कारण बारिश हो रही है।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:delhi rainfall before monsoon brings respite from scorching heat