DA Image
4 अप्रैल, 2020|8:06|IST

अगली स्टोरी

'दिल्ली हिंसा का जिम्मेदार कौन' याचिका पर HC का केन्द्र और राज्य सरकार को नोटिस

delhi violence

दिल्ली हाईकोर्ट ने उत्तरपूर्व दिल्ली में हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों का पता लगाने के लिए यूएपीए के तहत जांच कराने के अनुरोध संबंधी याचिका पर केंद्र, दिल्ली सरकार से जवाब मांगा। कोर्ट ने हिन्दु सेना द्वारा दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए केन्द्र सरकार और अन्य को नोटिस जारी किया है। इस याचिका में एआईएमआईएम अकबरुद्दीन ओवैसी, असदुद्दीन ओवैसी और वारिस पठान के खिलाफ एफआईआर की मांग की गई है। दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को दिल्ली दंगा और हेट स्पीच को लेकर दाखिल याचिकाओं पर पर सुनवाई की।

वहीं हाईकोर्ट ने कथित रूप से नफरत फैलाने वाले भाषण देने के मामले में कांग्रेस नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा के खिलाफ एफआईआर करने के अनुरोध वाली याचिका पर शुक्रवार को केंद्र और दिल्ली सरकार से जवाब मांगा।

मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ ने याचिका पर गृह मंत्रालय, दिल्ली सरकार और पुलिस को नोटिस जारी किया। याचिका में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, आप के विधायक अमानतुल्ला खान, एआईएमआईएम नेताओं वारिस पठान और अकबरुद्दीन ओवैसी के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज किए जाने की मांग की गई है। याचिका में कथित रूप से नफरत फैलाने वाले भाषणों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल गठित किए जाने की भी मांग की गई है।

दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 39 हुई

उत्तर- पूर्वी दिल्ली में तीन दिनों तक हुई हिंसा मरने वालों की संख्या 39 हो गई है, जिसमें गुरु तेग बहादुर अस्पताल में 34 लोगों की, लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में तीन तथा एक व्यक्ति की जग प्रवेश चंद अस्पताल में मौत हुई है। 
इस इलाके में तीन दिनों तक हुई हिंसक वारदातों में लगभग 200 लोग घायल हुए हैं, जिसमें से कई लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। फिलहाल हालात नियंत्रण में है और जांच के लिए क्राइम ब्रांच के अंतर्गत एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है।

दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी मनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि हिंसाग्रस्त इलाकों में समुचित संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात करने के बाद हालात नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि 48 एफआईआर अब तक दर्ज की जा चुकी है और तथ्यों की जांच करने के बाद और मामले दर्ज किये जाएंगे। एक हजार से अधिक सीसीटीवी फुटेज मिले हैं जिसकी जांच की जा रही है। अब तक 106 लोगों की गिरफ्तारी की गयी है। उन्होंने कहा कि इलाके में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए दिन-रात चौकसी बरती जा रही है।

दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त एस. एन. श्रीवास्तव ने हिंसा से प्रभावित चांदबाग और खजूरी खास इलाके का दौरा किया और स्थानीय लोगों से हालचाल जाना। इस दौरान स्थानीय लोगों ने उनके समक्ष सुरक्षा, शांति से संबंधित कई मांगें रखी। 
 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delhi high court seeks Center and Delhi govt reply on plea seeking probe under UAPA to find out those behind violence in North East Delhi