Delhi Electricity Consumption High From 10 PM To 2 Am - दिल्ली में बिजली खपत रात 10 से 2 बजे के बीच सबसे ज्यादा, AC को हो रहा है अधिक इस्तेमाल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में बिजली खपत रात 10 से 2 बजे के बीच सबसे ज्यादा, AC को हो रहा है अधिक इस्तेमाल

रात के तापमान में हो रही बढ़ोतरी के चलते दिल्ली में बिजली की खपत बढ़ रही है। रात में एसी चलाने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। इससे रात 10 से 2 बजे के बीच दिल्ली में बिजली की खपत सबसे ज्यादा है।

इस वजह से बिजली बिल में भी दो से पांच हजार रुपये का इजाफा हो रहा है। विज्ञान एवं पर्यावरण केंद्र ने तापमान में बढ़ोतरी और बिजली खपत के औसत के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है। दिल्ली अप्रैल-मई और जून में चिलचिलाती गर्मी के लिए जानी जाती रही है। आमतौर पर दिनभर की गर्मी के बाद यहां पर रात कुछठंडी होती हैं, लेकिन कुछ वर्षों में दिल्ली में रात के तापमान में लगातार इजाफा देखा जा रहा है।

विज्ञान एवं पर्यावरण केन्द्र के अध्ययन के मुताबिक, मई 2018 में औसत न्यूनतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस से नीचे नहीं गया। वर्ष 1971 की तुलना में देखें तो मई में औसत न्यूनतम तापमान में तीन डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हुई। रात में बढ़े तापमान के चलते बिजली खर्च में भी इजाफा हुआ है। विज्ञान एवं पर्यावरण केंद्र में प्रोग्राम मैनेजर अविकल सोमवंशी ने बताया कि घरों में तेज गर्मी से निपटने के प्राकृतिक तरीके कम हो रहे हैं। इससे रात में चैन की नींद सोने के लिए एसी का प्रयोग बढ़ रहा है।

बूढ़ी हो रही है देश की राजधानी, दो दशक बाद दिल्ली में बच्चों से ज्यादा बुजुर्ग होंगे

विज्ञान एवं पर्यावरण केन्द्र के अध्ययन के मुताबिक, दिन में 1 से 4 तो रात में 10 से 2 बजे के बीच एसी का सबसे ज्यादा प्रयोग होता है। मई 2018 में तापमान और बिजली की खपत के आधार पर केन्द्र का दावा है कि दिन में 1 से लेकर 4 बजे के बीच बिजली की औसत खपत 5280 मेगावाट तक पहुंच गई। वहीं, रात में 10 से 2 बजे के बीच बिजली खपत 5256 मेगावाट तक पहुंच गई।

भाता है 25 से 32 डिग्री का पारा : दिल्ली के लोगों को 25 से 32 डिग्री सेल्सियस के बीच का तापमान सबसे ज्यादा भाता है। तापमान अगर इसके बीच है तो लोग एसी का इस्तेमाल कम से कम करते हैं। मगर जैसे ही तापमान इससे ऊपर होता है, तो एसी का इस्तेमाल बढ़ जाता है।

विज्ञान एवं पर्यावरण केन्द्र के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर अनुमिता रायचौधरी ने इस बारे में कहा, ''रात में अधिक बिजली खपत का मतलब है कि घरों में एसी का प्रयोग ज्यादा हो रहा है। भारत में जिस गति से एसी का प्रयोग बढ़ रहा है, उससे अनुमान है कि वर्ष 2022 तक औद्योगिक क्षेत्र व आवासीय क्षेत्र में बिजली खपत बराबर हो जाएगी।''

इन उपायों से कम हो सकता है बिजली का खर्च
1. एसी का तापमान 26-27 डिग्री सेल्सियस पर रखें।
2. इस तापमान पर अगर गर्मी लगे तो पंखा भी चला लें।
3. एसी के आउटर पर सीधी धूप पड़ने से बचाने का उपाय करें।
4. खिड़की से आने वाली धूप को रोकने के लिए पर्दें लगाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Delhi Electricity Consumption High From 10 PM To 2 Am