ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशओपिनियन पोल में दावा: दिल्ली में कायम रह सकता है केजरीवाल का जलवा, मिल सकती हैं इतनी सीटें

ओपिनियन पोल में दावा: दिल्ली में कायम रह सकता है केजरीवाल का जलवा, मिल सकती हैं इतनी सीटें

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi election 2020) की तारीखों का ऐलान चुनाव आयोग ने सोमवार को कर दिया। दिल्ली में आठ फरवरी को वोटिंग होगी और 11 फरवरी को नतीजे आएंगे। दिल्ली चुनाव में किस पार्टी को कितनी...

ओपिनियन पोल में दावा: दिल्ली में कायम रह सकता है केजरीवाल का जलवा, मिल सकती हैं इतनी सीटें
Madanलाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीTue, 07 Jan 2020 01:24 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi election 2020) की तारीखों का ऐलान चुनाव आयोग ने सोमवार को कर दिया। दिल्ली में आठ फरवरी को वोटिंग होगी और 11 फरवरी को नतीजे आएंगे। दिल्ली चुनाव में किस पार्टी को कितनी सीटें मिल सकती हैं, इसको लेकर एबीपी न्यूज ने सीवोटर के साथ मिलकर ओपिनियन पोल किया है। 

सर्वे के अनुसार, दिल्ली में अरविंद केजरीवाल का जलवा कायम रह सकता है। ओपिनियन पोल के अनुसार, चुनाव में आम आदमी पार्टी को 70 में से 59 सीटें मिल सकती हैं। इस तरह एक बार फिर से दिल्ली में केजरीवाल सरकार की वापसी हो सकती है। 

ओपिनियन पोल के अनुसार, बीजेपी को आगामी विधानसभा चुनाव में महज आठ सीटों के मिलने का ही अनुमान है। पिछले चुनाव में बीजेपी को तीन सीटें मिली थीं। वहीं, पोल में कांग्रेस को भी तीन सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। इस तरह कांग्रेस को पिछले चुनाव के मुकाबले तीन सीटों का फायदा हो सकता है। पिछली बार कांग्रेस का खाता नहीं खुल सकता था। 

वहीं, आम आदमी पार्टी को 53.30% वोट मिल सकते हैं। इसके अलावा बीजेपी के खाते में 25.90% वोट आ सकते हैं। वहीं, कांग्रेस को 4.7% वोट मिलने का अनुमान जताया गया है।

दिल्ली में 1.46 करोड़ से अधिक मतदाता

दिल्ली में आठ फरवरी को होने जा रहे विधानसभा चुनाव में 1.46 करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। सोमवार को प्रकाशित अंतिम मतदाता सूची से यह जानकारी मिली। दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) रणबीर सिंह ने बताया कि अंतिम मतदाता सूची में यहां कुल 1,46,92,136 मतदाता हैं, जिनमें 80,55,686 पुरूष और 66,35,635 लाख महिलाएं तथा 815 ट्रांसजेंडर मतदाता शामिल हैं। 

(डिस्क्लेमर- यह अनुमान एक सर्वे के आधार पर किया गया है और वास्तविक परिणाम इससे अलग हो सकते हैं। हम मीडिया संस्थान होने के नाते इसकी रिपोर्टिग कर रहे हैं। लाइव हिन्दुस्तान इस सर्वे के लिए जिम्मेदार नहीं है।)
epaper