DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रक्षा मंत्री 20 जनवरी को करेंगी दूसरे रक्षा गलियारे का उद्‌घाटन

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण (सोनू मेहता/हिन्दुस्तान)

देश को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना के तहत औद्योगिक दृष्टि से महत्वपूर्ण राज्य तमिलनाडु में दूसरा रक्षा गलियारा बनाया जा रहा है। इसका उद्घाटन 20जनवरी को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण करेंगी। 

रक्षा सचिव (उत्पादन) डॉ. अजय कुमार ने सोमवार को संवाददाताओं को बताया कि देश को रक्षा उत्पादन का गढ़ बनाने के लिए सरकार उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के बाद तमिलनाडु के तिरूचिरापल्ली में दूसरा रक्षा गलियारा बनाने जा रही है। इसके राज्य के विभिन्न जिलों और शहरों में 6 केन्द्र होंगे, जिनमें पहले से ही बड़े पैमाने पर औद्योगिक गतिविधियां चल रही हैं। ये केन्द्र होसूर, सेलम, तिरूचिरापल्ली, कोयम्बतूर, चेन्नई और मदुरै हैं। 

डॉ. कुमार ने कहा कि उसी दिन कोयम्बतूर में रक्षा क्षेत्र के लिए नए नवाचार केन्द्र की शुरुआत की जाएगी। रक्षा क्षेत्र से जुड़े कुछ नए उत्पादों की शुरुआत के साथ-साथ गलियारे के लिए विभिन्न निवेश परियोजनाओं की घोषणा की जाएगी। कार्यक्रम में सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के साथ-साथ विदेशी कंपनियां भी हिस्सा लेंगी। कार्यक्रम में रक्षा क्षेत्र की कुछ मौजूदा महत्वपूर्ण रक्षा परियोजनाओं के विस्तार की भी घोषणा की जाएगी।

5 हजार करोड़ की घोषणा

सूत्रों के अनुसार इस दौरान लगभग 5 हजार करोड़ रूपये से अधिक की निवेश परियोजनाओं की घोषणा किए जाने की संभावना है। इससे पहले उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में रक्षा गलियारे के उद्घाटन के दौरान 3700 करोड़ रूपये से अधिक की निवेश परियोजनाओं की घोषणा की गई थी। 

इसलिए तमिलनाडु महत्वपूर्ण

डॉ. कुमार ने कहा कि तमिलनाडु देश का प्रमुख विनिमार्ण हब है। वहां ऑटो उद्योग, एयरोस्पेस उद्योग, सूचना प्रौद्योगिकी, कपड़ा तथा अन्य क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर उत्पादन और निर्यात हो रहा है। राज्य में बड़ी संख्या में इंजीनियरिंग कॉलेज हैं, जहां से प्रतिभाशाली जन संसाधन आसानी से मिल सकता है। 

8 बड़े रक्षा उपक्रम हैं यहां

तमिलनाडु में सार्वजनिक क्षेत्र के 28 फीसदी उपक्रम हैं, जिनमें से 8 बड़े रक्षा उपक्रम हैं। रक्षा गलियारे में निवेश करने वाली कंपनियों को आसानी से बाजार तो मिलेगा ही, उन्हें बुनियादी ढांचे का भी लाभ मिलेगा। सरकार जरूरी ढांचागत सुविधाओं का निमार्ण भी करेगी। विदेशी कंपनियों को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति के तहत निवेश की अनुमति दी जाएगी। 

CST में नियुक्ति संबंधी सहमति वापस लेने पर विवाद समाप्त होः एके सीकरी

मेघालयः30 दिन बाद भी 370 फुट गहरी खदान में फंसे खनिकों का सुराग नहीं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Defense Minister to inaugurate 2nd Defense Corridor on January 20