ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशलैब में बैठे-बैठे ISI की संदिग्ध महिला हैंडलर को भेज रहा था गुप्त जानकारी, पुलिस ने रक्षाकर्मी को किया गिरफ्तार

लैब में बैठे-बैठे ISI की संदिग्ध महिला हैंडलर को भेज रहा था गुप्त जानकारी, पुलिस ने रक्षाकर्मी को किया गिरफ्तार

रक्षा कर्मी को 17 जून को गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ लोक सेवक द्वारा आपराधिक विश्वासघात के आरोप और आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

लैब में बैठे-बैठे ISI की संदिग्ध महिला हैंडलर को भेज रहा था गुप्त जानकारी, पुलिस ने रक्षाकर्मी को किया गिरफ्तार
Ashutosh Rayएजेंसी,हैदराबादSat, 18 Jun 2022 10:11 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

हैदराबाद में एक रक्षा प्रयोगशाला के एक संविदा कर्मचारी को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI की एक संदिग्ध महिला हैंडलर के साथ गोपनीय जानकारी साझा करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने कहा कि विश्वसनीय सूचना पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने 17 जून को रक्षा अनुसंधान एवं विकास प्रयोगशाला (DRDL) के संविदा कर्मचारी को गिरफ्तार किया।

इसमें कहा गया कि कर्मचारी ने कथित तौर पर 'डीआरडीएल-आरसीआई परिसर की अत्यधिक सुरक्षित और गोपनीय जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से एक संदिग्ध आईएसआई महिला हैंडलर के साथ लीक की थी, जिससे राष्ट्रीय अखंडता और सुरक्षा को नुकसान पहुंचने की आशंका है।'

साल 2014 में पूरी की इंजीनियरिंग

साल 2014 में इंजीनियरिंग पूरी करने वाले आरोपी ने विशाखापत्तनम में एक निजी फर्म में 'क्वालिटी चेक इंजीनियर' के रूप में काम किया था और 2018 में नौकरी छोड़ दी थी। बाद में, उसने बेंगलुरु स्थित एक कंपनी की हैदराबाद शाखा में काम किया, जो डीआरडीएल की एक परियोजना से संबद्ध थी। कंपनी को हालांकि डीआरडीएल से बाद में कोई और परियोजना की जिम्मेदारी नहीं मिली। 

महिला ने सोशल मीडिया पर भेजा फ्रेंड रिक्वेस्ट

आरोपी ने फरवरी 2020 में एक परियोजना में अनुबंध कर्मचारी के रूप में नामांकन करने के लिए सीधे डीआरडीएल अधिकारियों से संपर्क किया। तब से वह शहर के आरसीआई, बालापुर में उसी स्थान पर काम कर रहा था। मार्च 2020 में आरोपी को सोशल मीडिया पर नताशा राव नाम की महिला की तरफ से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा गया था जिसे उसने स्वीकार कर लिया।

महिला ने खुद को 'यूके डिफेंस जर्नल' की कर्मचारी

महिला ने खुद को 'यूके डिफेंस जर्नल' की कर्मचारी के रूप में पेश किया और दावा किया कि वह प्रकाशन में थी। बताया जाता है कि उससे बातचीत के दौरान आरोपी ने गोपनीय जानकारी साझा की थी। आरोपी ने नताशा राव के साथ अपना बैंक खाता नंबर भी साझा किया, जो दिसंबर, 2021 तक उसके संपर्क में थी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें