DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सल इलाके की बेटी बनी क्षेत्र की पहली डॉक्टर

नक्सल धमकी

नक्सलवाद के लिए कुख्यात छत्तीसगढ़ के दोरनापाल की रहने वाली बेटी माया ने क्षेत्र की पहली एमबीबीएस डॉक्टर बनकर इतिहास रचा है। माया ने महज 1० वर्ष की उम्र में ही अपने पिता को खो दिया था। 

माया का कहना है कि उसने महज 1० साल की उम्र में अपने पिता को खो दिया था। उसका बचपन से ही डॉक्टर बनने का सपना था, जिसे पूरा करने में वह लगी रही। डॉक्टर बनने के बाद वह गरीबों की सेवा करेगी।

माया की बहन का कहना है कि पिताजी के निधन के बाद माया को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

आर्थिक तंगी से भी गुजरना पड़ा, लेकिन माया के हौसले नहीं डगमगाए। बाधाओं से लड़ते हुए उसने अपना लक्ष्य हासिल कर लिया है। माया की इस उपलब्धि पर पूरा परिवार उसकी कामयाबी से खुश है।

राजस्थान के मालपुरा में कर्फ्यू, कांवड़ियों से हुई थी मारपीट

लालू यादव की जमानत बढ़ाने की याचिका खारिज,30 अगस्त तक करना होगा सरेंडर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:daughter born in Naxal region become first doctor in that area