DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दसॉल्ट पर सिर्फ इसलिए दबाव नहीं डाल सकते क्योंकि विपक्ष चाहता है : रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि भारत फ्रांस की विमान निर्माता कंपनी दसॉल्ट एविएशन पर राफेल सौदे से जुड़े ऑफसेट साझेदार का ब्योरा साझा करने के लिए सिर्फ इसलिए दबाव नहीं डाल सकती है क्योंकि विपक्ष इसके बारे में जानना चाहता है। उन्होंने कहा दसॉल्ट, भारत के साथ समझौते के तहत ऑफसेट पार्टनर का ब्यौरा साझा करने के लिए बाध्य है लेकिन ऐसा करने के लिए एक साल का समय है। दसॉल्ट, राफेल लड़ाकू विमान सौदे में मूल उपकरण निर्माता (ओईएम) है।

मंत्री ने वार्षिक ईटी अवार्ड में यहां कहा, 'केवल इसलिए कि कल मेरे विपक्षी इसके (ऑफसेट पार्टनर का ब्यौरा) बारे में जानना चाहते थे, मैं ओईएम पर यह कहकर दबाव नहीं डाल सकती कि विपक्ष यह चाहता है, मुझे अभी बताइये। उन्होंने कहा, ''नियम के मुताबिक, वे मुझे अगले साल भी बता सकते हैं। उन्होंने कहा, 'मैं इसके लिए इंतजार करूंगी। एक बार जान लूं, मैं आपको बता दूंगी। इससे पहले, खबरों के आधार पर मैं अटकलें क्यों लगाऊं? 

सबरीमाला विवादः बीजेपी नेता गिरफ्तार, पार्टी कार्यकर्ता विरोध में उतरे

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dassault can not be pushed for sharing offset partners details says Defense Minister