ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकॉल सेंटर की आड़ में ग्राहकों को लगाया 126 करोड़ का चूना, ED की रेड से खुला राज; जब्त हुई करोड़ों की संपत्ति

कॉल सेंटर की आड़ में ग्राहकों को लगाया 126 करोड़ का चूना, ED की रेड से खुला राज; जब्त हुई करोड़ों की संपत्ति

ईडी की जांच में पता चला कि कंपनी के प्रतिनिधियों ने अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में भोले-भाले निवासियों को निशाना बनाया। रेड के बाद जांच एजेंसी ने करोड़ों की संपत्ति जब्त की।

कॉल सेंटर की आड़ में ग्राहकों को लगाया 126 करोड़ का चूना, ED की रेड से खुला राज; जब्त हुई करोड़ों की संपत्ति
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाताSat, 11 Nov 2023 12:07 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पश्चिम बंगाल में चल रहे फर्जी कॉल सेंटर घोटाले का पर्दाफाश किया है। ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मेट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड की 67.23 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की। जांच एजेंसी के मुताबिक, ये संपत्तियां मामले के मुख्य आरोपी कुणाल गुप्ता और उसके परिवार के सदस्यों और कंपनियों और उनके सहयोगियों की थीं। बता दें ईडी ने गुप्ता को 10 सितंबर को गिरफ्तार किया था। कुर्क की गई अपराध की आय 35 बैंक खातों, 14 कारों और 12 अचल संपत्तियों (कुल मूल्य 61.84 करोड़ रुपये) में शेष राशि के रूप में है। अचल संपत्तियों में गोवा में एक रिसॉर्ट, गोवा में एक विला, 10 कमर्शियल ऑफिस, फ्लैट, अपार्टमेंट, कोलकाता और बेंगलुरु में जमीन शामिल हैं।

ईडी ने कोलकाता पुलिस द्वारा दर्ज एक एफआईआर के आधार पर एक जांच शुरू की, जिसमें मेट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड और उसके सहयोगियों के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और आपराधिक साजिश सहित गंभीर अपराध का आरोप लगाया गया। जांच में कंपनी द्वारा साल्ट लेक, कोलकाता में चलाए जा रहे एक अवैध कॉल सेंटर का पता चला, जो घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धोखाधड़ी की गतिविधियों में लिप्त था। बता दें ईडी ने कुणाल गुप्ता, उसके प्रमुख कर्मचारियों और उसकी कंपनियों के आवासीय और वाणिज्यिक परिसरों पर पीएमएलए, 2002 के तहत तलाशी अभियान भी चलाया था।

ईडी की जांच में पता चला कि कंपनी के प्रतिनिधियों ने अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में भोले-भाले निवासियों को निशाना बनाया। बाद में इस कॉल सेंटर को कोलकाता पुलिस ने सील कर दिया। वैध व्यवसायों के प्रतिनिधियों के रूप में आरोपियों ने फर्जी टेक सपोर्ट, भ्रामक वेबसाइट बिक्री और नकली मोबाइल ऐप्स के माध्यम से नकली लोन ऑफर के माध्यम से लोगों को धोखा दिया। उन्होंने पीड़ितों को पर्याप्त भुगतान करने के लिए मजबूर किया और 126 करोड़ रुपये की अपराध आय अर्जित की।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट की मानें तो कुणाल गुप्ता अपनी कंपनी के ऑफिस परिसर में फर्जी कॉल सेंटर के पीछे का मास्टरमाइंड था। गुप्ता अवैध सट्टेबाजी और ऑनलाइन जुआ गतिविधियों में भी शामिल था। जांच के बाद पता चला है कि गुप्ता ने अपने इस अवैध धन को सफेद करने की कोशिश में परिवार के सदस्यों और कंपनी के कर्मचारियों को भी शामिल किया। बता दें होटल, क्लब और कैफे सहित गेस्ट क्षेत्र के माध्यम से अपराध की आय का उपयोग किया गया और बेदाग के रूप में पेश किया गया। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें