DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोटखाई गैंगरेप: हिरासत में मौत मामले पर SC गंभीर, मुकदमा शिमला से चंडीगढ़ भेजा

new delhi  india - april 10  2019  a view of supreme court after the rafale case hearing  in new del

उच्चतम न्यायालय ने हिमाचल प्रदेश के कोटखाई में 2017 में एक नाबालिग लड़की से सामूहिक बलात्कार कर उसकी हत्या करने के मामले के एक आरोपी की कथित रूप से हिरासत में मौत से संबंधित मामला मंगलवार को शिमला से चंडीगढ़ की अदालत में स्थानांतरित कर दिया। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने सीबीआई और आरोपियों का पक्ष सुनने के बाद इस मुकदमे को चंडीगढ़ की अदालत में स्थानांतरित करने का आदेश दिया। सीबीआई और आरोपियों को इस मामले के स्थानांतरण पर कोई आपत्ति नहीं थी।

पीठ ने कहा, ''हम इस मामले को चंडीगढ़ की सक्षम अदालत को स्थानांतरित करने का आदेश देते हैं।" सीबीआई के वकील ने पीठ को सूचित किया कि इस मामले में सिपाही से लेकर पूर्व पुलिस महानिरीक्षक सहित अनेक पुलिसकर्मियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया है। शीर्ष अदालत ने पिछले महीने ही इस मामले में आरोपी हिमाचल प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिरीक्षक जहूर हैदर जैदी को जमानत देते हुये कहा था कि इस प्रकरण को हिमाचल प्रदेश की अदालत से अन्यत्र स्थानांतरित करने के पहलू पर बाद में विचार किया जायेगा।

रिपोर्ट पाना मेरा अधिकार है, CJI पर आरोप लगाने वाली महिला ने कहा

शीर्ष अदालत ने पिछले साल नवंबर में जैदी, पुलिस उपाधीक्षक (थ्योग), मनोज जोशी और छह अन्य पुलिसकर्मियों को नोटिस जारी कर पूछा था कि उनके खिलाफ लंबित इस मामले को क्यों नहीं शिमला से बाहर किसी अन्य अदालत में स्थानांतरित कर दिया जाये। इससे पहले, सीबीआई ने न्यायालय से कहा था कि हालांकि इस मामले में आरोप पत्र दाखिल हो चुका है लेकिन अभी तक मुकदमा शुरू नहीं हुआ है और इसलिए बेहतर होगा कि इसके शीघ्र निबटारे के लिये इसे किसी अन्य अदालत में स्थानांतरित कर दिया जाये। जैदी और सात अन्य पुलिसकर्मियों को पुलिस हिरासत में आरोपी सूरज की मृत्यु के मामले में गिरफ्तार किया गया था। कोटखाई थाने में 18 जुलाई, 2017 को सूरज मृत मिला था।

कोटखाई में चार जुलाई, 2017 को 16 वर्षीय लड़की लापता हो गई थी और बाद में छह जुलाई को हालैला के जंगल में उसका शव मिला था। शव के पोस्टमार्टम में इस लड़की से बलात्कार और हत्या की पुष्टि हुयी। इस मामले को लेकर उपजे जनाक्रोश के बीच राज्य की वीरभद्र सिंह सरकार ने जैदी के नेतृत्व में विशेष जांच दल गठित किया था। जांच दल ने छह व्यक्तियों को गिरफ्तार किया था, लेकिन एक आरोपी सूरज की हिरासत के दौरान मृत्यु होने के बाद उच्च न्यायालय ने इस मामले को केन्द्रीय जांच ब्यूरो को सौंप दिया था। जांच ब्यूरो ने ही जैदी, जोशी, और अन्य पुलिसकर्मियों को हिरासत में मौत की घटना के सिलसिले में गिरफ्तार किया था।

'CJI को क्लीनचिट देने वाली जांच समिति रिपोर्ट को सार्वजनिक करना चाहिए'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Custodial death in Kotkhai rape case SC transfers case from Shimla to Chandigarh