ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशLok Sabha Election: यूसुफ पठान तो जीते बाकी खिलाड़ियों का क्या? कौन हुआ क्लीन बोल्ड

Lok Sabha Election: यूसुफ पठान तो जीते बाकी खिलाड़ियों का क्या? कौन हुआ क्लीन बोल्ड

तृणमूल के टिकट पर चुनाव लड़ रहे एक अन्य दिग्गज खिलाड़ी पूर्व फुटबॉल कप्तान बनर्जी पश्चिम बंगाल की हावड़ा सीट पर 1.69 लाख मतों से जीत दर्ज की। वह लगातार तीसरी बार लोकसभा सदस्य बने हैं।

Lok Sabha Election: यूसुफ पठान तो जीते बाकी खिलाड़ियों का क्या? कौन हुआ क्लीन बोल्ड
pti04-06-2024-000061a-0 jpg
Niteesh Kumarएजेंसी,नई दिल्लीTue, 04 Jun 2024 09:50 PM
ऐप पर पढ़ें

क्रिकेट स्टार कीर्ति आजाद और यूसुफ पठान ने दिग्गजों को हराया, जबकि महान फुटबॉलर प्रसून बनर्जी भी जीत दर्ज करने में सफल रहे। लेकिन, बाकी खिलाड़ियों को हार का सामना करना पड़ा जिससे लोकसभा चुनावों में भारत के खिलाड़ियों के लिए दिन मिला-जुला रहा। भाला फेंक में 2 बार के पैरालंपिक चैंपियन देवेंद्र झझारिया और दिग्गज हॉकी खिलाड़ी व हॉकी इंडिया के मौजूदा अध्यक्ष दिलीप टिर्की को क्रमश: राजस्थान के चुरू और ओडिशा के सुंदरगढ़ में शिकस्त झेलनी पड़ी। तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए आजाद और पठान देनों ने दिग्गज राजनेताओं को हराकर जीत दर्ज की।

तृणमूल के टिकट पर चुनाव लड़ रहे एक अन्य दिग्गज खिलाड़ी पूर्व फुटबॉल कप्तान बनर्जी पश्चिम बंगाल की हावड़ा सीट पर 1.69 लाख मतों से जीत दर्ज की। वह लगातार तीसरी बार लोकसभा सदस्य बने। कपिल देव की अगुआई में 1983 में विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे आजाद ने राजनीति में जोरदार वापसी की। उन्होंने पश्चिम बंगाल की बर्धमान-दुर्गापुर सीट से भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता दिलीप घोष को हराया। आजाद ने मेदिनीपुर के निवर्तमान सांसद और भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष घोष को 1,37,981 मतों से हराया।

झझारिया चुरू लोकसभा सीट से चुनाव हारे
गुजरात के पठान ने 5 बार के कांग्रेस सांसद और लोकसभा के निवर्तमान विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी पर पश्चिम बंगाल की बहरामपुर लोकसभा सीट पर 85 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की। यूसुफ जहां पहली बार राजनीति में भाग्य आजमा रहे हैं तो वहीं आजाद को राजनीति का अच्छा खासा अनुभव है और वह पहले भी सांसद रह चुके हैं। पहली बाद दावेदारी पेश कर रहे झझारिया को चुरू लोकसभा सीट पर भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े। उन्हें कांग्रेस के राहुल कस्वान के खिलाफ 72,737 वोट से हार का सामना करना पड़ा। टिर्की भी बीजू जनता दल की ओर से सुंदरगढ़ सीट पर चुनाव लड़ते हुए भाजपा के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जुएल ओराम के खिलाफ हार गए।