DA Image
27 मार्च, 2020|8:54|IST

अगली स्टोरी

चीन के वुहान में फंसे 76 भारतीयों और 7 देशों के 36 नागरिकों को IAF के विमान से भारत लाया गया

iaf relief flight

1 / 2IAF relief flight

breaking news

2 / 2Breaking news

PreviousNext

चीन में कोरोना वायरस का कहर अब भी जारी है। कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित वुहान शहर से भारत सरकार ने अपने 76 नागरिकों को सुरक्षित निकाल लिया है। भारतीय वायुसेना का विमान आज सुबह चीन के वुहान में फंसे 76 भारतीयों और 7 देशों के 36 नागरिकों को लेकर नई दिल्ली पहुंचा। इस बात की जानकारी खुद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर दी है। 

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर बताया कि गुरुवार सुबह भारतीय वायुसेना का विमान 76 भारतीयों और पड़ोसी देशों के करीब 36 नागरिकों को लेकर लौटा। भारत ने अपने नागरिकों के अलावा, बांग्लादेश, म्यांमार, मालदीव, चीन, साउथ अफ्रीका, अमेरिका और मेडागास्कर के करीब 36 नागरिकों को वुहान शहर से निकाला है। इससे पहले चीन में कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों के लिए भारतीय वायुसेना का सी-17 सैन्य विमान लगभग 15 टन चिकित्सा सामग्री लेकर वुहान पहुंचा था।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस: जापानी क्रूज में 20 दिन से फंसे 119 भारतीय और 5 पड़ोसी देशों के नागरिकों को निकाल लाया भारत

पिछले सप्ताह भारत ने आरोप लगाया था कि चीन विमान को भेजने की अनुमति देने से जानबूझकर मना कर रहा है जबकि दूसरे देशों को वुहान से अपने नागरिकों को ले जाने के लिए उड़ानें संचालित करने दे रहा है। चीन ने भारत के आरोपों को खारिज किया था।

विदेश मंत्रालय ने कहा था कि चिकित्सा आपूर्ति से कोरोना वायरस के प्रसार पर नियंत्रण के प्रयासों में चीन को मदद मिलेगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के प्रसार को लोक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया है। मंत्रालय ने कहा कि विमान में 15 टन चिकित्सा सामग्री हैं, जिसमें मास्क, ग्लब्स और चिकित्सा से जुड़े अन्य सामान हैं।

बता दें कि चीन में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या 27715 हजार पार हो चुकी है। वहीं, वायरस के पुष्ट मामलों की संख्या 80000 तक पहुंच गई। हालांकि सीओवीआईडी-19 (कोरोना वायरस) का प्रकोप कम हो रहा है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus IAF relief flight from China brings back 76 Indians and citizens from 7 nations