DA Image
14 दिसंबर, 2020|7:36|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस पर काबू के लिए देश में चार तरीके के 30 टीकों पर शोध

coronavirus vaccine research   ap pti photo

प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार डॉ. के. विजय राघवन ने कहा देश में 30 समूह कोरोना के खिलाफ टीका बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें बड़े उद्योग समूह, वैज्ञानिक संस्थान और व्यक्तिगत स्तर पर वैज्ञानिक शामिल हैं। आमतौर पर ऐसे वायरस के खिलाफ चार किस्म के टीके होते हैं और कोरोना पर काबू के लिए चारों किस्म के टीके देश में तैयार किए जा रहे हैं।

डॉ. राघवन एवं नीति आयोग के सदस्य डॉ, वी. के. पाल ने गुरुवार (28 मई) को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोरोना पर हो रहे अनुसंधान को लेकर जानकारी साझा की। उन्होंने कहा कि चार किस्म के टीके होते हैं। एक एमआरएनए वैक्सीन जिसमें वायरस का जेनेटिक मेटिरियल का कंपोनेंट लेकर इंजेक्ट किया जाता है। दूसरा स्टैंडर्ड टीका होता है जिनमें वायरस के कमजोर प्रतिलिपि को टीके के रुप में इस्तेमाल किया जाता है। तीसरे प्रकार के टीके में किसी और वायरस की बैकबोन में कोविड-19 के प्रोटीन की कोडिंग की जाएगी। चौथे वे टीके हैं जिनमें लैब में वायरस का प्रोटीन तैयार किया जाता है। इन चारों किस्म के टीकों पर देश में काम हो रहा है।

 

दिल्ली:कोरोना के मामलों में सबसे बड़ी उछाल, 24 घंटे में मिले 1024 मरीज

उन्होंने कहा कि तीन किस्म के प्रयास चल रहे हैं। एक जो हम खुद कर रहे हैं। दूसरे, जो साझीदारी में हैं, लेकिन बाहर की एजेंसियां लीड कर रही हैं। तीसरे जो बाहरी एजेंसियों के साथ हैं और हम लीड कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय टीके पूरे विश्व में इस्तेमाल होते हैं। तीन में से दो बच्चों को भारत में बना टीका लगता है। देश में टीका बनाने वाली कंपिनया खुद भी टीकों पर अनुसंधान कर रही हैं तथा दूसरी कंपनियों के साथ शोध में साझीदी भी कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि फ्लू के टीके की बैकबोन पर प्री क्लिनिकल स्टीडीज अक्टूबर तक पूरी होने की संभावना है। फरवरी में प्रोटीन वैक्सीन तैयार होने की संभावना है। इसी प्रकार इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस से जुड़े कुछ स्टार्टअप ने कई संस्थानों एवं बाहरी एजेंसियों के टीके पर कार्य शुरू किया है। उन्होंने कहा कि टीके बनाने में 10-15 साल लगते हैं तथा भारी खर्च होता है। इस समय को कम करने के लिए सौ से अधिक प्रोजेक्ट एक साथ दुनिया में शुरू किए गए हैं। टीके बनने के बाद भी लोगों तक उसे पहुंचाना एक चुनौती होती है।

महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की तादाद 60 हजार के करीब, 1982 लोगों की अब तक मौत

दवा का मानवीय परीक्षण छह महीने के भीतर इसी प्रकार कई दवाओं पर भी शोध चल रहा है तथा उम्मीद जताई की साझीदारी में बनाई जा रही दवा अगले छह महीनों में मानवीय परीक्षणों तक पहुंच सकती है। कई नई और पुरानी दवाओं पर शोध हो रहे हैं। इनमें फेबीपेरामीर, सीएसआईआर द्वारा एक पौधे से तैयार की जा रही दवा एसीक्यूएस, एमडब्ल्यू, आईसीएमआर के प्लाज्मा ट्रायल, हाइड्राक्सीक्लोरोक्वीन के ट्रायल, रेमडेसिवीमीर, अर्बीडाल, बीसीजी टीके के ट्रायल आदि शामिल हैं। उन्होंने कहा कि ये सभी अलग-अलग चरणों में हैं। इनमें से कई दवाएं रिपरपज की जा रही हैं, तो कई नई भी हैं। नई दवाओं के पहले मानवीय परीक्षण शुरू होने में कम से कम छह महीने लगेंगे।

वायरस में बदलाव नहीं
उन्होंने कहा कि कई प्रयोशालाओं में कोरोना वायरस की जीनोंम सिक्वेंसिंग की गई है। लेकिन उसमें कोइ खास बदलाव नहीं दिखा है। जो बदलाव हैं वह स्थानीय कारणों से हैं, लेकिन इसका वायरस की कार्य पद्धित पर कोई असर नहीं हुआ है।

सीएसआईआर-एआईसीटीई हेकाथन
उन्होंने कहा कि नई दवाओं की खोज के लिए सीएसआईआर-एसआईसीटीई द्वारा एक हैकाथन का आयोजन किया जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronavirus 30 Vaccine Research Four method