DA Image
7 मई, 2021|7:16|IST

अगली स्टोरी

कोरोना का कहर जारी, नए मरीजों के बाद अब सर्वाधिक मौतों का रिकॉर्ड भी ध्वस्त

corona wreak havoc continues to now records of most deaths after new patients also collapsed

कोरोना की दूसरी लहर ने एक दिन में सर्वाधिक मौत के आंकड़े को ध्वस्त कर दिया है। प्रतिदिन मिलने वाले नए कोरोना मामलों का हर दिन नया रिकॉर्ड स्थापित कर रही दूसरी लहर के कारण शनिवार सुबह तक 24 घंटों में 1341 संक्रमितों की मौत हो गई। यह महामारी की शुरुआत के बाद से अब तक देश में एक दिन में जान गंवाने वाले कोरोना मरीजों की सर्वाधिक संख्या है। इसी के साथ कुल मृतक संख्या बढ़कर 1,75,649 हो गई है। इसके पहले एक दिन में कोरोना से सर्वाधिक मौत का आंकड़ा 1290 था, जिसे 16 सितंबर को दर्ज किया गया था।

कोरोना से ठीक होने की दर घटी: संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की दर गिरकर 87.23 प्रतिशत रह गई है। कोरोना से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 1,26,71,220 हो गई है और मृत्यु दर गिरकर 1.21 प्रतिशत हो गई है। 

हफ्तेभर में प्रतिदिन मौत के औसत मामले 66 फीसदी बढ़े: देश में 10 अप्रैल से 16 अप्रैल के बीच कुल 7206 लोगों की कोरोना से मौत हुई। इस लिहाज से सप्ताह में प्रतिदिन मरने वाले कोरोना मरीजों की औसत संख्या 1029 रही। लेकिन इसके पहले के सप्ताह (3 अप्रैल से 9 अप्रैल तक) कुल 4326 कोरोना मरीजों की मौत हुई। इस लिहाज से बीते इस हफ्ते में रोजाना कोरोना मरीजों के मौत की औसत संख्या 618 रही। दो आंकड़ों से पता चलता है कि पहले के मुकाबले दूसरे हफ्ते में प्रतिदिन कोरोना मरीजों की मौत की औसत संख्या में 66.3 फीसदी का इजाफा हुआ।

अहमदाबाद में कोरोना मृत्युदर सर्वाधिक: देश के प्रमुख 10 शहरों में अहमदाबाद में कोरोना मरीजों की मृत्यु दर (सीएफआर)सर्वाधिक है। कोरोना मृत्यु दर से आशय प्रति 100 कोरोना मरीजों में से जान गंवाने वाले मरीजों की संख्या से है।

16 अप्रैल रात 12बजे तकदेश के 10 शहरों कोरोना से मौत (मृत्यु दर)

अहमदाबाद 2568 (2.7)
मुंबई 12250 (2.2)
कोलकाता 3,191 (2.1)
नॉर्थ 24 परगना 2580 (1.9)
चेन्नई 4361 (1.6)
दिल्ली 11793 (1.5)
ठाणे 6360 (1.4)
नागपुर 4438 (1.4)
पुणे 8742 (1.2)
नासिक 2547 (1.1)

-स्रोत COVID19INDIA.ORG

चौबीस घंटों में 2.34 लाख नए मरीज: भारत में 24 घंटों में कोरोना के रिकॉर्ड 2,34,692 नए मामले सामने आने के बाद देश में अब तक संक्रमित हो चुके लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,45,26,609 हो गई है। संक्रमण के मामलों में लगातार 38वें दिन वृद्धि हुई है। देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 16,79,740 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 11.56 प्रतिशत है।

कम जांच होने से बढ़ जाता मौत का खतरा: समय पर जांच न होने से मरीज में सही समय पर संक्रमण का पता नहीं लगता जो कोरोना मृत्युदर बढ़ने का एक अहम कारण। संक्रमण का सही समय पर पता नहीं चलने से व्यक्ति का इलाज देरी से शुरू होता है, जिससे उसे अधिक नुकसान होता है। कहां कम जांच हो रही है? इसका फॉर्मूला डब्ल्यूएचओ ने तय कर दिया है। इसके मुताबिक किसी देश में यदि कोरोना संक्रमण दर (पॉजिटिविटी रेट) यदि 10 फीसदी से अधिक है, तो माना जाता है कि वहां पर्याप्त मात्रा में जांच नहीं हो रही है। यानी जिन देशों में संक्रमण दर 10 फीसदी से अधिक है, यदि वहां ठीक से जांच कराई जाए तो संक्रमितों की संख्या बहुत अधिक बढ़ जाएगी।

साढ़े 26 करोड़ जांच : भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के मुताबिक, अब तक 26,49,72,022 नमूनों की जांच की जा चुकी है जिनमें से 14,95,397 नमूनों की जांच शुक्रवार को की गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona wreak havoc continues to now records of most deaths after new patients also collapsed