DA Image
1 जून, 2020|8:46|IST

अगली स्टोरी

यातायात न मिलने से अस्पताल की इमरजेंसी ड्यूटी में नहीं पहुंच सके डॉक्टर

corona virus

राजधानी दिल्ली और उसके आसपास के इलाके में सार्वजनिक यातायात की व्यवस्था बंद होने की वजह से कई अस्पतालों में डॉक्टर और अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी अपने काम पर नहीं पहुंच सके। दरअसल, गाजियाबाद नोएडा और गुड़गांव मैं रहने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों को दिल्ली के अस्पतालों में पहुंचने में खासा परेशानी का सामना करना पड़ा। 

कुछ कर्मचारी अपने निजी वाहन से पहुंच गए लेकिन जिनके पास निजी वाहन की व्यवस्था नहीं थी वे अस्पताल में अपने काम पर नहीं जा सके। अस्पताल प्रशासन ने आनन-फानन में रोस्टर में बदलाव कर दूसरे कर्मचारियों को बुला लिया। हिंदू राव अस्पताल में काम करने वाली एक महिला डॉक्टर ने बताया कि सोमवार को उनकी इमरजेंसी ड्यूटी थी लेकिन वह गाजियाबाद में रहती हैं और उनके पास अपना कोई निजी वाहन नहीं है। 

सोमवार को मैं तो गाजियाबाद से कोई कैब और नहीं मेट्रो चलने की वजह से वह अस्पताल नहीं जा पाई। उन्होंने इसकी सूचना अपने विभाग के अध्यक्ष को तो दे दी लेकिन कोई उपाय न होने की वजह से उन्हें अस्पताल नहीं बुलाया जा सका। नोएडा में रहने वाली एक नर्स ने बताया कि वह दिल्ली के लोकनायक अस्पताल में काम करती हैं लेकिन सोमवार को लॉक डाउन की वजह से वे अस्पताल नहीं पहुंच पाई। 

सोशल मीडिया पर कई ऐसे लोगों ने दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार से अस्पतालों में काम करने वाले लोगों के लिए यातायात की सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की। वही उत्तरी निगम की कमिश्नर वर्षा जोशी ने बताया कि इसका समाधान किया जाएगा। फिलहाल रोस्टर में बदलाव किया जा रहा है ताकि इमरजेंसी सेवाओं में किसी प्रकार का प्रभाव न पड़े। 

कोट
हम लॉक डाउन का पूरी तरह समर्थन करते हैं लेकिन अस्पताल जैसी इमरजेंसी सेवाओं में काम करने वाले डॉक्टरों एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मचारी जो सार्वजनिक यातायात पर ही निर्भर हैं, अस्पताल कैसे पहुंच पाएंगे। हम सरकार से इन लोगों के लिए यातायात की सुविधा उपलब्ध कराने की मांग करते हैं ताकि अस्पताल की सेवाओं पर कोई बुरा असर ना पड़े।

-डॉक्टर शिवजी देव बर्मन, अध्यक्ष, फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:corona virus: Doctors of Ghaziabad Noida and Gurugram could not reach the emergency duty of the hospital due to lack of transport