DA Image
31 मार्च, 2020|1:19|IST

अगली स्टोरी

कोरोना : लॉकडाउन के दौरान जानवरों की सेहत का भी रखें ख्याल

dog

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हम सब घरों में बैठें हैं ताकि संक्रमण की चेन टूट सके। यह समय जितना हमारे लिए कठिन है, उससे कहीं ज्यादा मुश्किल चुनौती बेजुवान जानवरों की है। जब सड़क पर लोग नहीं होंगे तो सड़क के जानवरों को खाने के लिए क्या मिलेगा।

पालतू जानवरों को बाहर ले जाना भी इस समय काफी कठिन है। ऐसे में ये हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम उनकी देखभाल करें। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने स्पष्ट किया है कि यह वायरस जानवरों से नहीं फैलता है। संगठन ने जानवरों की देखभाल से जुड़े निर्देश जारी किए हैं।

कुत्तों को कोरोना के संक्रमण से बचाएं
डब्लूएचओ के मुताबिक, कोरोना वायरस एक से दूसरे जानवर या जानवर से इंसानों में नहीं फैलता। पर ऐसी संभावना जरूर हो सकती है कि कोई संक्रमित इंसान किसी जानवर को संक्रमित कर दे, हालांकि अब तक दुनिया में ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है। ऐसे में जानवरों की सेहत का ज्यादा ख्याल रखें, हमेशा हाथ धोकर ही उन्हें धुएं। अमेरिकी संस्था ‘सेंट्रल फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन’ का सुझाव है कि चूंकि अभी तक वायरस के बारे में बहुत जानकारी नहीं है इसलिए अगर बीमार हैं तो जानवर से दूरी बना लें ताकि वह बीमार न हो जाए। स्त्रोत : विश्व स्वास्थ्य संगठन, सेंट्रल फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन, पेटा

पशुओं की लार से वायरस नहीं
कोरोना वायरस किसी संक्रमित इंसान के नाक के कण, खांसी या छींक में बाहर आने वाली नम बूंदों से फैलता है। पर ऐसा जानवरों की लार या छींक से नहीं होता क्योंकि कोरोना वायरस जानवरों से नहीं फैलता है। पर यह समय जानवरों को मौसमी बीमारियों के साथ अवसाद दे सकता है इसलिए उनका खास ख्याल रखने की जरुरत है।

घुमाते वक्त सावधान रहें
पशु अधिकारों से जुड़ी संस्था ‘पेटा' के मुताबिक, जानवर को घुमाने दूर न जाएं और फिलहाल ज्यादा देर तक बाहर न रहें। आपके घर में ही छोटा बगीचा हो तो उसे वहां कुछ देर के लिए छोड़ें और निगरानी करते रहें। जानवर किसी अनजान व्यक्ति के संपर्क में न आए। अगर आप बीमार हैं तो मास्क लगाकर ही उसे घुमाने ले जाएं या फिर किसी दूसरे की मदद लें। अगर आपके पास छत है तो वहां रेत या मिट्टी डालकर ऐसी व्यवस्था कर लें, जहां वह हल्का हो सके।

बेजुबानों की भावनाओं को समझें, प्यार करें
उनके व्यवहार पर ध्यान दें, अगर वो सुस्त लग रहा है तो उसे प्यार करें या घर में ही इधर-उधर घुमाएं ताकि वे अवसाद में न चले जाएं। जानवर जितना ज्यादा घर में रहेगा, उसे चबाने या कीड़े आदि खाने की इच्छा होगी। उसकी मानसिक तृप्ति के लिए टीथर आदि दें जिसे वह मुंह से काट पाए। कुत्ता या बिल्ली को जो भी बिस्कुट आदि खिलाते हैं, उसे स्टोर कर लें। अगर ऐसा संभव नहीं हो सका है तो अपनी स्थानीय पशु संस्था से मदद मांगें।

जानवरों को रोटी दें
अपने गली के जानवर की जिम्मेदारी उठाएं, उसे खाना देते रहें। अगर वह बीमार पड़ रहा है तो जानवरों पर काम करने वाली स्थानीय संस्था को फोन कर सकते हैं। पेटा, भारत में भी मदद उपलब्ध करवाती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona: Take care of animals health during lockdown