DA Image
6 अप्रैल, 2020|7:55|IST

अगली स्टोरी

कोरोना- किराना दुकानें खुली रहेंगी जरूरी चीजें घर-घर पहुंचेंगी

corona outbreak

किसी को घबराने की जरूरत नहीं है। लॉकडाउन के दौरान खाने-पीने की वस्तुओं और दवाओं की दिक्कत न हो, लिहाजा प्रदेश सरकार ने मोहल्लों की फुटकर किराना और दवा दुकानों को स्थानीय प्रशासन की इजाजत से खोलने के निर्देश दिए हैं। निर्देश हैं कि इस मामले में डीएम अपने स्तर से फैसला कर लें। ध्यान रखा जाए कि ऐसा करते समय कहीं कोई अव्यवस्था न होने पाए। 

वहीं ऑनलाइन होम डिलिवरी के लिए ज़ोमैटो और स्विगी जैसी कंपनियों को भी इजाजत दी जाएगी। प्रदेश भर में खाद्य सामग्री की घर-घर सप्लाई के लिए 12 हजार सप्लाई वैन की व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के दौरान खाद्य सामग्री आदि की सप्लाई सुचारु बनाए रखने के लिए बुधवार को आला अफसरों के साथ समीक्षा बैठक की। 

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बैठक में हुए फैसलों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में स्थानीय प्रशासन सुनिश्चित करेगा कि मोहल्लों में किराना दुकानें पूरे समय खुली रहें। जिला प्रशासन को निर्देश दिए गए हैं कि शहरों में घर-घर डिलिवरी के लिए हर मोहल्ले में दो से चार वाहनों की व्यवस्था की जाए। इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने बंदियों को पैरोल पर छोड़ने के लिए कमेटी बना दी है।

लॉक डाउन के उल्लंघन पर अब तक 2089 एफआईआर-
अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि पूरे प्रदेश में सख्ती के साथ लॉक डाउन की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। पूरे प्रदेश में धारा 188 के उल्लंघन पर पुलिस ने अब तक 2089 एफआईआर दर्ज की है। उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील भी की कि अनावश्यक घरों से बाहर न निकलें। उन्होंने बताया कि प्रदेश के विभिन्न शहरों में अब तक 6044 बैरियर लगाए गए हैं।

प्रदेश में अब तक कुल 200150 वाहन चेक किए गए हैं, जिसमें से 49074 वाहनों का चालान किया गया है। इसमें से 3679 वाहनों को सीज किया गया और 1.01 करोड़ रुपये शमन शुल्क वसूल किया गया। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona outbreak: Grocery shops will be open and important things will reach door to door