ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशमीडिया में बयानबाजी से लेकर जनता से मिलने तक, CWC मीटिंग में पार्टी नेताओं को आलाकमान का संदेश

मीडिया में बयानबाजी से लेकर जनता से मिलने तक, CWC मीटिंग में पार्टी नेताओं को आलाकमान का संदेश

खरगे ने पार्टी लीडर्स ने जनता की समस्याओं को सुनने के लिए कहा, क्योंकि पार्टी अगले साल चुनाव में राष्ट्रीय लड़ाई के लिए जमीन तैयार कर रही है। खरगे ने कहा, 'यह आराम करने का समय नहीं है।'

मीडिया में बयानबाजी से लेकर जनता से मिलने तक, CWC मीटिंग में पार्टी नेताओं को आलाकमान का संदेश
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 17 Sep 2023 05:51 PM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस कार्य समिति (CWC) ने इस साल होने वाले 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में पार्टी के पक्ष में जनादेश मिलने की उम्मीद जताई। इसे लेकर रविवार को कहा गया कि पार्टी आगे की लड़ाई के लिए पूरी तरह तैयार है। पार्टी की विस्तारित कार्य समिति की बैठक के बाद पारित प्रस्ताव में यह भी कहा गया कि देश की जनता बदलाव चाहती है। कार्य समिति ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की तैयारियों पर भी जोर दिया है। प्रस्ताव में कहा गया, 'विश्वास है कि कांग्रेस को इस साल मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम, राजस्थान और तेलंगाना के लोगों से निर्णायक जनादेश मिलेगा।'

हैदराबाद में सीडब्ल्यूसी की बैठक के दूसरे दिन कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने सभी स्तर पर नेताओं और कार्यकर्ताओं को लोगों से लगातार मिलने के लिए कहा। खरगे ने पार्टी लीडर्स से जनता की समस्याओं को सुनने के लिए कहा, क्योंकि पार्टी अगले साल चुनाव में राष्ट्रीय लड़ाई के लिए जमीन तैयार कर रही है। खरगे ने कहा, 'यह आराम करने का समय नहीं है। भाजपा के शासन में पिछले 10 वर्षों में आम लोगों की चुनौतियां कई गुना बढ़ गई हैं। प्रधानमंत्री ने गरीबों, किसानों, मजदूरों, महिलाओं और युवाओं की चिंताओं पर बात करने से इनकार कर दिया है। वह खुद से परे नहीं देख पाते हैं।'

सोनिया गांधी की सलाह- सोच-समझकर करें टिप्पणियां
सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं को आत्मसंयम बनाए रखने की सलाह दी। साथ ही उन्होंने मीडिया के सामने ऐसी टिप्पणियों से बचने के लिए कहा, जो पार्टी के हित को नुकसान पहुंचा सकती हैं। मालूम हो कि कांग्रेस पहले ही उन पत्रकारों और मीडिया संगठनों की सूची जारी कर चुकी है, जिनके साथ पार्टी अब कोई बातचीत नहीं करेगी। वहीं खरगे की ओर से कहा गया, 'हमें व्यक्तिगत हितों को किनारे रखना होगा और अथक परिश्रम के लिए तैयार रहना चाहिए। हमें पार्टी की सफलता को प्राथमिकता देनी होगी। केवल एकता और अनुशासन से ही हम विरोधियों को हरा सकते हैं। यह कर्नाटक में साबित हुआ, जहां हम एकजुट रहे और सफलता हासिल करने के लिए अनुशासन के साथ संघर्ष किया।'

स्वर्णिम तेलंगाना का वादा टूट गया: कांग्रेस 
कांग्रेस ने भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार और भारत राष्ट्र समिति (BRS) की प्रदेश सरकार पर तेलंगाना के साथ धोखा करने का आरोप लगाया। सीडब्लयूसी की ओर से तेलंगाना की जनता के लिए जारी अपील में कहा गया कि पार्टी राज्य की जनता को 6 गारंटी देगी। कांग्रेस ने कहा, '2014 में तेलंगाना राज्य के गठन के साथ तेलंगाना के लोगों का संघर्ष रंग लाया। तेलंगाना के लोग एक 'बंगारू तेलंगाना' (स्वर्णिम तेलंगाना) की आशा कर रहे थे। तेलंगाना के गठन के 9 साल बाद सीडब्ल्यूसी को पीड़ा के साथ कहना पड़ रहा है कि 'स्वर्णिम तेलंगाना' का वादा टूट गया है, दिल्ली और हैदराबाद दोनों सरकारों ने धोखा दिया है। जिस सपने के लिए लोगों ने तेलंगाना के लिए लड़ाई लड़ी वह सपना अधूरा रह गया है।'

बैठक में ये दिग्गज नेता हुए शामिल
पार्टी की पुनर्गठित कार्य समिति की पहली बैठक शनिवार को हुई थी और रविवार को विस्तारित कार्य समिति की बैठक हुई। विस्तारित कार्य समिति में कार्य समिति के सदस्यों, विशेष आमंत्रित सदस्यों, स्थाई आमंत्रित सदस्यों के अलावा पार्टी की प्रदेश इकाइयों के अध्यक्ष, विधायक दल के नेता, संसदीय दल के पदाधिकारी व केंद्रीय चुनाव समिति के सदस्य शामिल होते हैं। विस्तारित कार्य समिति की रविवार की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू, कांग्रेस की प्रदेश इकाइयों के अध्यक्ष व पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया।
(एजेंसी इनपुट के साथ)