कांग्रेस को मेघालय में फिर बड़ा झटका लगा है। 17 में से 12 विधायकों के तृणमूल कांग्रेस (TMC) में शामिल होने के कुछ दिनों बाद, मेघालय में पार्टी के दो और वरिष्ठ नेताओं ने इस्तीफे की पेशकश की है। मेघालय प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एमपीसीसी) के कार्यकारी अध्यक्ष जेम्स लिंगदोह और पूर्व महासचिव डॉ मानस दास गुप्ता ने बुधवार को शिलांग में पार्टी से इस्तीफा दे दिया।

जेम्स लिंगदोह ने एआईसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल को अपना त्याग पत्र सौंपने के बाद संवाददाताओं से कहा कि, वह 1988 में कांग्रेस में शामिल हुए और 33 वर्षों तक पार्टी में रहे, कई पदों पर रहे।

उन्होंने कहा, 'मैंने अपने 33 साल पार्टी के लिए बिताए हैं और यह सिर्फ मजाक नहीं है। मेघालय कांग्रेस का बेस मेरे पिता ने बनाया था, लेकिन उन्होंने मुझे कांग्रेस पार्टी से बाहर कर दिया। उन्होंने मुझे कार्यकारी अध्यक्ष से हटाने के लिए पहले ही दिल्ली को एक पत्र भेजा था। पार्टी का पतन राज्य में 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले 31 दिसंबर, 2017 को शुरू हुआ था।”

AICC ने बुधवार को मेघालय प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में डेबोरा सी. मारक और पी.एन. साइम को नियुक्त किया और बिलीकिड संगमा, ग्रिथलसन आरेंघ, रोजर बेनी ए. संगमा, ई. ओसाकर फिरा, मैनुअल बडवार को महासचिव नियुक्त किया है।

वहीं, एमपीसीसी के पूर्व महासचिव डॉ मानस दास गुप्ता ने भी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। डॉ गुप्ता ने एमपीसीसी के अध्यक्ष विन्सेंट पाला को अपना त्याग पत्र भेजा, जिसमें कहा गया था, "मैं भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा देता हूं। 36 वर्षों तक पार्टी की सेवा करने के बाद एमपीसीसी के हालिया फेरबदल तक के महासचिव के रूप में भी कार्य किया।

हाल ही में, मेघालय के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ मुकुल संगमा सहित कांग्रेस के 17 में से 12 विधायक टीएमसी में शामिल हुए। मेघालय विधानसभा अध्यक्ष मेतबाह लिंगदोह ने बुधवार को डॉ मुकुल संगमा को नोटिस जारी किया, जो टीएमसी विधायक दल के नेता भी हैं, और नौ अन्य विधायकों को कांग्रेस विधायक अम्पारीन लिंगदोह द्वारा दायर एक याचिका के बाद नोटिस जारी किया, जिसमें विधानसभा से उनकी अयोग्यता पर उनका जवाब मांगा गया था।