ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कृषि कानूनों को लेकर हलफनामे में झूठ बोला, कांग्रेस का आरोप

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कृषि कानूनों को लेकर हलफनामे में झूठ बोला, कांग्रेस का आरोप

कांग्रेस ने बुधवार को केंद्र सरकार पर सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे में झूठ बोलने का आरोप लगाया है। पार्टी का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के समक्ष गलत तथ्य पेश करना अवमानना का मामला बनता है। इस मामले...

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कृषि कानूनों को लेकर हलफनामे में झूठ बोला, कांग्रेस का आरोप
Rakesh Kumarविशेष संवाददाता,नई दिल्लीWed, 13 Jan 2021 10:06 PM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस ने बुधवार को केंद्र सरकार पर सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे में झूठ बोलने का आरोप लगाया है। पार्टी का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के समक्ष गलत तथ्य पेश करना अवमानना का मामला बनता है। इस मामले में कोई भी याचिकाकर्ता अदालत के सामने यह मामला उठा सकता है। पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि इन तीनो कानूनों को लेकर एक आरटीआई कार्यकर्ता ने दिसंबर में जानकारी मांगी थी। इन आरटीआई के जवाब में कहा गया है कि इस तरह की चर्चा की कोई जानकारी नहीं है।

सरकार की तरफ से अदालत में दाखिल हलफनामे का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार ने अपने हलफनामे वर्ष 2000 में बनाई गई समिति और 2013 और 2017 में मॉडल ऐक्ट के जिक्र किया है। उन्होंने कहा कि इन मॉडल ऐक्ट से साफ है कि केंद्र को कृषि को लेकर पूरे देश के लिए कानून बनाने का कोई अधिकार क्षेत्र नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार ने अदालत के समक्ष गलत जानकारी दी है, जो अवमानना का मामला बनता है। यह सवाल किए जाने पर की क्या इसके खिलाफ अवमानना का मामला उठाएगी? उन्होंने कहा कि इस मामले में याचिकाकर्ता अदालत के सामने यह मामला उठा सकते है।

किसानों के धैर्य की परीक्षा न ले मोदी सरकार : गहलोत
इस बीच, राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि केंद्र की मोदी सरकार को किसानों के धैर्य की परीक्षा लेने की बजाय कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए, इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस किसानों के संघर्ष में उनके साथ है। गहलोत ने ट्वीट कर कहा, कांग्रेस पार्टी किसानों के संघर्ष में उनके साथ खड़ी है, लेकिन कृषि कानूनों का समर्थन कर चुके सदस्यों की कमेटी से उन्हें उम्मीद नहीं है। मोदी सरकार को किसानों के धैर्य का इम्तिहान लेने की बजाय तीनों काले कृषि कानून वापस लेने चाहिए।

कृषि कानूनों को वापस ले सरकार : सिद्धरमैया
वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धरमैया ने मांग की कि केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लिया जाए। उन्होंने नए कृषि कानूनों पर रोक लगाने का उच्चतम न्यायालय का आदेश बस इस बात को दोहराता है कि नए कानून किसानों के हितों के विरूद्ध हैं। उन्होंने कहा, शीर्ष अदालत समझ गई है कि किसान अपनी मांगों में सही हैं, इसलिए उसने किसानों को प्रदर्शन जारी रखने की इजाजत दी है। कांग्रेस नेता ने मोदी को दिल्ली में वर्तमान प्रदर्शन के दौरान कई किसानों की मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया।

epaper