DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › कांग्रेस ने जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर उठाया सवाल, कहा- BJP का 'हिट एंड रन' का कमाल का उदाहरण
देश

कांग्रेस ने जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर उठाया सवाल, कहा- BJP का 'हिट एंड रन' का कमाल का उदाहरण

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,नई दिल्लीPublished By: Mrinal
Thu, 27 Feb 2020 01:32 PM
कांग्रेस ने जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर उठाया सवाल, कहा- BJP का 'हिट एंड रन' का कमाल का उदाहरण

कांग्रेस ने दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर सवाल उठाया है। कांग्रेस ने इसे शर्मनाक बताया है और कहा कि रातों-रात हुए इस तबादले से हम हैरान हैं। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा नेताओं को बचाने के लिए उनका तबादला किया गया है, इससे पूरा देश हैरान है। आखिरकार सरकार कितने जजों का तबादला करेगी। 

सुरजेवाला ने कहा कि भय और नफरत का माहौल पैदा करने वाले किसी को भी नहीं बख्शा जाना चाहिए, चाहे वो किसी भी पार्टी से हो। जो भी इससे पीड़ित है, जिसे चोट लगी है और जिसने अपनी आजीविका खोई है, हमारा दायित्व है कि उसके दोषियों को सजा मिले और न्याय जीते। सरकार अगर राजधर्म भूलकर राजनीति धर्म पर चल रही है तो इस देश के न्यायपालिका का कर्तव्य है कि उसे राजधर्म पर लाए।

उधर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने भी इसको लेकर ट्वीट करते हुए केंद्र पर हमला बोला है। प्रियंका ने लिखा- न्यायमूर्ति मुरलीधर का आधी रात को हुआ ट्रांसफर मौजूदा विवाद को देखते हुए चौंकाने वाला नहीं है, लेकिन यह प्रमाणित रूप से दुखद और शर्मनाक है। लाखों भारतीयों को एक न्यायप्रिय और ईमानदार न्यायपालिका में विश्वास है, न्याय को विफल करने और उनके विश्वास को तोड़ने का सरकार का प्रयास दुस्साहसी हैं।

बता दें कि दिल्ली हिंसा में घायलों को समुचित इलाज और सुरक्षा मुहैया कराने की मांग वाली याचिका पर आधी रात सुनवाई करने और भाजपा नेताओं के खिलाफ दंगा भड़काने के आरोप में मुकदमा दर्ज करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के जज जस्टिस एस मुरलीधर का तबादला पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में कर दिया गया है। बुधवार (26 फरवरी) को उन्होंने इस मामले की सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया था। बाद में इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष स्थान्तरित कर दिया गया था। यहां बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने 12 फरवरी को ही मुरलीधर के स्थानांतरण की सिफारिश की थी। हालांकि पिछले सप्ताह हाईकोर्ट के बार एसोसिएशन ने जस्टिस मुरलीधरन के तबादले पर पुनर्विचार की अपील की थी।

संबंधित खबरें