ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देश शशि थरूर ने फिर किया ऐसे अंग्रेजी शब्द का इस्तेमाल, सुनकर सिर खुजाने लगेंगे

शशि थरूर ने फिर किया ऐसे अंग्रेजी शब्द का इस्तेमाल, सुनकर सिर खुजाने लगेंगे

तिरुवंतपुरम से सांसद और कांग्रेस नेता शशि थरूर ने बुधवार को अंग्रेजी का ऐसा शब्द ट्वीट किया जिसे बोलने में जुबान लड़खड़ा जाए। शशि थरूर ने इस शब्द का मतलब भी बताया जिसके सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।

 शशि थरूर ने फिर किया ऐसे अंग्रेजी  शब्द का इस्तेमाल, सुनकर सिर खुजाने लगेंगे
Atul Guptaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीWed, 20 Apr 2022 11:29 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

तिरुवंतपुरम के सांसद और कांग्रेस नेता के अलावा शशि थरूर की एक और पहचान है और वो है शशि थरूर की नॉलेज। शशि थरूर अंग्रेजी भाषा पर ऐसी पकड़ रखते हैं और ऐसे-ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं कि अंग्रेजों का भी दिमाग चकरा जाए। शशि थरूर अक्सर बातचीत में या फिर सोशल मीडिया पर अंग्रेजी के कुछ ऐसे शब्द लिख या बोल देते हैं कि लोग सिर खुजाने लगते हैं कि शशि थरूर ने आखिर बोल क्या दिया? शशि थरूर ने बुधवार को भी ऐसा ही एक शब्द सोशल मीडिया पर लिखा जिसे पढ़कर लोग चकरा गए। शशि थरूर ने ट्विटर पर जिस शब्द को लिखा वो था Quockerwodger। शशि थरूर ने इस शब्द का मतलब भी ट्विटर पर साझा किया। शशि थरूर ने कहा- Quockerwodger का मतलब लकड़ी का तोता होता है। quockerwodger एक ऐसा राजनेता था जो प्रभावशाली थर्ड पार्टी के इशारों पर काम करता है।

जाहिर है शशि थरूर का इशारा पॉलीटिकल था लेकिन साफ तौर पर शशि थरूर ने किसी पर उंगली नहीं उठाया। इससे पहले शशि थरूर ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा था कि सरकार का काम है राष्ट्र निर्माण करना ना कि उसे गिराना। शशि थरूर ने ये भी कहा था कि सरकार ने देश की बड़ी संख्या का भरोसा खो दिया है। शशि थरूर ने देश में हो रहे सांप्रदायिक दंगों को लेकर कहा कि इन दंगों से भारत की छवि खराब बिगड़ रही है। उन्होंने कहा कि देश को इस्लामोफोबिया से पहचाना जा रहा है।

 

शशि थरूर दरअसल पिछले दिनों राजधानी दिल्ली में हनुमान जयंती पर हुई हिंसा और उससे पहले राम नवमी के मौके पर देश के कई राज्यों में हुई हिंसा को लेकर बयान दे रहे थे। शशि थरूर ने कहा- मैं विदेश में अपने कुछ दोस्तों से बात करता हूं और भारत के हालात के बारे में उनके विचार सुनता हूं जो बहुत नेगेटिव हैं। कभी अपने लोकतंत्र और विविधता के लिए हमें दुनियाभर में सम्मान मिलता था।

epaper