DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तिरुवनंतपुरम: शशि थरूर ने पार्टी हाइकमान को लिखा पत्र, नहीं मिल रहा पार्टी कार्यकताओं का समर्थन

शशि थरूर इस सीट से पहली बार 2009 में चुनाव लड़े थे। उस बार उन्हें एक लाख से तीन मत कम मिले थे, लेकिन 2014 में वह लगभग 15, 000 मतों के अंतर से जीते।

shashi tharoor

केरल के तिरुवनंतपुरम लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस नेता शशि थरूर ने पार्टी हाईकमान को पत्र लिखकर शिकायत की है कि उनके प्रचार अभियान में स्थानीय पार्टी नेता रुचि नहीं ले रहे हैं। इस सीट से 2009 और 2014 में दो बार कांग्रेस के टिकट पर सांसद चुने गए शशि थरूर का मुकाबला भाजपा नेता और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल कुम्मानेम राजशेखरन और भाकपा विधायक व राज्य के पूर्व मंत्री सी दिवाकरन से है। शशि थरूर इस सीट से पहली बार 2009 में चुनाव लड़े थे। उस बार उन्हें एक लाख से तीन मत कम मिले थे, लेकिन 2014 में वह लगभग 15, 000 मतों के अंतर से जीते।

Read Also: लोकसभा चुनाव 2019: वोटिंग खत्म होने से कुछ मिनट पहले बोले पीएम मोदी- हमारे पक्ष में भारी लहर

इस बार तिरुवनंतपुरम में है कठिन मुकाबला
इस बार सबरीमला मंदिर विवाद में कूदने के कारण नायर समुदाय का उनका परंपरागत वोट बैंक भी खिसक सकता है। मतदाताओं के बीच थरूर की छवि अभिजात वर्ग के व्यक्ति और बाहरी नेता की है। वह स्थानीय कांग्रेस विधायक व दिग्गज नेता के करुणाकरन के बेटे के मुरलीधरन की गैरमौजूदगी के कारण समन्वित प्रचार अभियान चलाने में कठिनाई महसूस कर रहे हैं। मुरलीधरन तिरुवनंतपुरम में जमीन से जुड़े नेता माने जाते हैं, लेकिन राज्य कांग्रेस प्रमुख मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने जब चुनाव न लड़ने की इच्छा जताई तब उनकी जगह मुरलीधरन को कोझिकोड जिले की वदाकारा लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Congress Leader Shashi Tharoor has written to the party high command complaining about the local party leaders lack of interest in his election campaign in Thiruvananthapuram