DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › राहुल गांधी बोले- BJP-संघ वाले हिंदू नहीं, करते हैं धर्म की दलाली; लक्ष्मी और दुर्गा की शक्ति पर आक्रमण का लगाया आरोप
देश

राहुल गांधी बोले- BJP-संघ वाले हिंदू नहीं, करते हैं धर्म की दलाली; लक्ष्मी और दुर्गा की शक्ति पर आक्रमण का लगाया आरोप

एजेंसियां,नई दिल्लीPublished By: Sudhir Jha
Wed, 15 Sep 2021 05:03 PM
राहुल गांधी बोले- BJP-संघ वाले हिंदू नहीं, करते हैं धर्म की दलाली; लक्ष्मी और दुर्गा की शक्ति पर आक्रमण का लगाया आरोप

कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर देवी लक्ष्मी और दुर्गा के अपमान का आरोप लगाते हुए कहा है कि ये झूठे हिंदू हैं और धर्म की दलाली करते हैं। महिला कांग्रेस के कार्यक्रम में शिरकत करते हुए राहुल ने यह भी कहा कि बीजेपी ने कभी महिला को प्रधानमंत्री नहीं बनाया है। 

कांग्रेस की महिला इकाई 'अखिल भारतीय महिला कांग्रेस' के स्थापना दिवस समारोह में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी यह दावा भी किया कि आरएसएस और भाजपा के लोग 'महिला शक्ति' को दबा रहे हैं और भय का माहौल पैदा कर रहे हैं।

राहुल गांधी ने नोटबंदी और जीएसटी का जिक्र करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 'लक्ष्मी की शक्ति' और 'दुर्गा की शक्ति' पर आक्रमण किया है। उन्होंने आरोप लगाया, ''वे (आरएसएस और भाजपा) अपने आपको हिंदू पार्टी कहते हैं और लक्ष्मी जी और मां दुर्गा पर आक्रमण करते हैं। फिर कहते हैं कि वे हिंदू हैं। ये लोग झूठे हिंदू हैं। ये लोग हिंदू नहीं हैं। ये हिंदू धर्म का इस्तेमाल करते हैं।'' कांग्रेस नेता के मुताबिक, भाजपा और आरएसएस के लोगों ने पूरे देश में डर फैलाया है, किसान डरे हुए हैं, महिलाएं डरी हुई हैं। उन्होंने कहा कि आरएसएस महिला शक्ति को दबाता है, लेकिन कांग्रेस का संगठन महिला शक्ति को समान मंच देता है।

राहुल गांधी ने कहा, ''अगर पिछले 100-200 साल में किसी एक व्यक्ति ने हिंदू धर्म को सबसे अच्छे तरीके से समझा और अपने व्यवहार में लाया, तो वह महात्मा गांधी हैं। इसे हम भी मानते हैं और आरएससस एवं भाजपा के लोग भी मानते हैं... महात्मा गांधी ने अहिंसा को सबसे अच्छे तरीके से जिया। हिंदू धर्म की बुनियाद अहिंसा है। इसके बावजूद आरएसएस की विचारधारा द्वारा महात्मा गांधी को गोली क्यों मारी गई? इस बारे में आपको सोचना होगा।'' उन्होंने कहा कि वह आरएसएस और भाजपा की विचारधारा के साथ कभी समझौता नहीं कर सकते।

राहुल गांधी ने जोर देकर कहा, ''देश में आरएससस और भाजपा की सरकार है। इनकी विचारधारा और हमारी विचारधारा अलग-अलग हैं। कांग्रेस की विचारधारा गांधी की विचारधारा है। गोडसे और सावरकर की विचारधारा और हमारी विचारधारा में क्या फर्क है, इसे हमें समझना होगा... हमें इनके खिलाफ प्रेम से लड़ना है। नफरत के जरिये हम नहीं लड़ सकते।''

'शिव से ईसा तक सबके साथ हाथ का निशान'
 

गांधी ने कांग्रेस के चुनाव चिन्ह हाथ को भी अपने अंदाज से परिभाषित किया और कहा कि हाथ का यह निशान एक ताकत है और यह शक्ति हर घर में मौजूद में है। भगवान शिव, गुरु नानक, भगवान महावीर, ईसा मसीह सबके साथ यह हाथ का चिन्ह है और ये सभी देवता हर घर में मौजूद हैं। इसका मतलब है कि हर घर में हाथ का साथ है और प्रत्येक घर में हाथ दिएगा। उन्होंने कहा कि हाथ आशीवार्द का प्रतीक नहीं बल्कि इसका मतलब है सच्चाई से डरो मत। मोदी और उनकी पार्टी हमेशा सच्चाई से भागती रही है और हमेशा झूठ का सहारा लेकर आगे बढने का काम किया है। 
 

संबंधित खबरें