ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश'यह तो डैमेज कंट्रोल, गुमराह करने की कोशिश', पेपर लीक विवाद के बीच परीक्षा कानून लागू होने पर कांग्रेस

'यह तो डैमेज कंट्रोल, गुमराह करने की कोशिश', पेपर लीक विवाद के बीच परीक्षा कानून लागू होने पर कांग्रेस

सार्वजनिक परीक्षा (अनुचित साधनों की रोकथाम) अधिनियम, 2024 को अधिसूचित कर दिया गया है, जिसका मकसद देश भर में आयोजित होने वाले प्रतियोगी और सामान्य प्रवेश परीक्षाओं में फर्जीवाड़े को रोकना है।

'यह तो डैमेज कंट्रोल, गुमराह करने की कोशिश', पेपर लीक विवाद के बीच परीक्षा कानून लागू होने पर कांग्रेस
Niteesh Kumarएजेंसी,नई दिल्लीSat, 22 Jun 2024 06:22 PM
ऐप पर पढ़ें

NEET और UGC-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी के आरोपों के बीच केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सार्वजनिक परीक्षा (अनुचित साधनों की रोकथाम) अधिनियम, 2024 को अधिसूचित कर दिया गया है, जिसका उद्देश्य देश भर में आयोजित होने वाले प्रतियोगी और सामान्य प्रवेश परीक्षाओं में फर्जीवाड़े को रोकना है। हालांकि, कांग्रेस इससे संतुष्ट नहीं है और इसे डैमेज कंट्रोल की कोशिश करार दिया। पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि इस कानून की जरूरत थी। यह पेपर लीक के बाद की स्थिति से निपटता है, जबकि यह सुनिश्चित करने के लिए कानून और प्रक्रियाओं की आवश्यकता है कि पेपर लीक ही न हो।

बता दें कि इस अधिनियम के तहत अपराधियों के लिए अधिकतम 10 साल की जेल की सजा और 1 करोड़ रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान है। जयराम रमेश ने एक्स पर पोस्ट किया, '13 फरवरी 2024 को राष्ट्रपति ने लोक परीक्षा (अनुचित साधनों की रोकथाम) विधेयक 2024 को अपनी स्वीकृति दी थी। आखिरकार आज सुबह ही देश को बताया गया कि यह अधिनियम कल यानी 21 जून 2024 से लागू हो गया है।' उन्होंने कहा कि स्पष्ट रूप से यह नीट, यूजीसी-नेट, सीएसआईआर-यूजीसी-नेट और अन्य घोटालों से पैदा हुई स्थिति को संभालने की कोशिश है।

'कानून बनाकर देश को गुमराह करने की कोशिश' 
जयराम रमेश ने यह भी कहा, 'इस कानून की जरूरत थी, लेकिन यह लीक होने के बाद मामले से निपटता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कानून, प्रणालियां और प्रक्रियाएं अधिक महत्वपूर्ण हैं कि पेपर लीक ही न हो।' वहीं, मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने भी पेपर लीक से जुड़े केंद्र सरकार के कानून को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जहां पेपर लीक होता है, वहां भारतीय जनता पार्टी का नाम सामने आता है और कानून बनाकर पार्टी देश को गुमराह करना चाहती है। उन्होंने आरोप लगाया कि जिन भी संस्थाओं में पेपर लीक जैसी घटनाएं घटती हैं, उन जगहों पर भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से प्रभावित उनके कार्यकर्ता बड़े पदों पर बैठे हैं। वहीं से पेपर लीक होता है।