DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › कांग्रेस के CEA पैनल की बैठक कल, पार्टी अध्यक्ष के चुनाव पर भी होगी चर्चा
देश

कांग्रेस के CEA पैनल की बैठक कल, पार्टी अध्यक्ष के चुनाव पर भी होगी चर्चा

औरंगजेब नक्शबंदी, एचटी,नई दिल्ली।Published By: Himanshu Jha
Tue, 13 Oct 2020 07:36 AM
कांग्रेस के CEA पैनल की बैठक कल, पार्टी अध्यक्ष के चुनाव पर भी होगी चर्चा

कांग्रेस के नवगठित केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण (सीईए) की कोरोना महामारी के बीच अगले कुछ महीनों में संगठनात्मक चुनाव कराने के लिए अपनाई जाने वाली प्रक्रिया पर चर्चा करने के लिए बुधवार यानी कल बैठक होगी। इस मामले से जुड़े लोगों ने इसकी जानकारी दी है। आपको बता दें कि कांग्रेस ने हाल ही में सभी राज्य इकाइयों से प्रतिनिधियों की अपडेटेड लिस्ट भेजने के लिए कहा था। 

नाम नहीं छापने की शर्त पर कांग्रेस के एक अधिकारी ने कहा कि सीईए ने पार्टी के डेटा और प्रौद्योगिकी विभाग से एआईसीसी सदस्यों के विवरण को सत्यापित करने में मदद करने के लिए भी कहा है।

अध्यक्ष के चुनाव पर होगी चर्चा
उन्होंने कहा कि दिल्ली में पार्टी के मुख्यालय में बुधवार को होने वाली बैठक में अध्यक्ष पद के लिए चुनाव की आधारशिला रखी जाएगी और कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) भी शामिल होगी।

11 सितंबर को एक बड़े संगठनात्मक फेरबदल को अंजाम देते हुए, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आंतरिक चुनाव कराने के लिए सीईए का गठन किया था। पांच सदस्यीय सीईए का नेतृत्व मधुसूदन मिस्त्री कर रहे हैं और इसके सदस्य राजेश मिश्रा, कृष्णा बायर गौड़ा, एस जोथिमणि और अरविंदर सिंह लवली हैं, जो पिछले महीने सोनिया गांधी को पत्र लिखने वालों में हैं।

24 अगस्त को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में, सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों ने एक महीने के भीतर संगठनात्मक चुनाव कराने के लिए पार्टी के सर्वोच्च निर्णय लेने वाले निकाय से कहा था, लेकिन गुलाम नबी आज़ाद सहित कुछ सदस्यों ने कहा कि महामारी के कारण संभव नहीं है। अंत में, आंतरिक चुनावों को पूरा करने के लिए छह महीने की ऊपरी सीमा तय की गई।

हैदराबाद स्थित राजनीतिक विश्लेषक सी नरसिम्हा राव ने कहा कि संगठनात्मक चुनाव किसी भी राजनीतिक दल के आंतरिक लोकतंत्र के लिए अच्छे हैं। उन्होंने कहा, “कांग्रेस में, नामांकन कई दशकों से एक अभिन्न अंग बन गया था। किसी भी पार्टी पद के लिए चुनाव कराना अच्छा है, लेकिन कांग्रेस को सभी महत्वपूर्ण मुद्दों पर आंतरिक चर्चा की प्रक्रिया को मजबूत करने की कोशिश करनी चाहिए।''

संबंधित खबरें