ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकांग्रेस ने BJP पर लगाया 'हफ्ता वसूली' का आरोप, पूछा- ED जांच का सामना कर रही कंपनी कैसे दे रही चंदा?

कांग्रेस ने BJP पर लगाया 'हफ्ता वसूली' का आरोप, पूछा- ED जांच का सामना कर रही कंपनी कैसे दे रही चंदा?

कांग्रेस पार्टी ने कहा, "इन कंपनियों में से 23 कंपनियों ने भाजपा को कुल 187.58 करोड़ रुपये दिए। इन कंपनियों ने 2014 के बाद और रेड पड़ने से पहले भाजपा को किसी भी तरह का चंदा नहीं दिया था।"

कांग्रेस ने BJP पर लगाया 'हफ्ता वसूली' का आरोप, पूछा- ED जांच का सामना कर रही कंपनी कैसे दे रही चंदा?
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली।Fri, 23 Feb 2024 01:35 PM
ऐप पर पढ़ें

आयकर विभाग की हालिया कार्रवाई के बाद कांग्रेस पार्टी सत्तारूढ़ भारती जनता पार्टी (भाजपा) पर चुनावी चंदे को लेकर हमलावर है। कांग्रेस ने 30 बड़ी कंपनियों से भारी मात्रा में चंदा लेने का आरोप लगाते हुए केंद्रीय जांच एजेंसियों के द्वारा जांच कराने की मांग की है। कांग्रेस ने इसके लिए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिखा है। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने इससे संबंधित कुछ रिपोर्टों का हवाला देते हुए लिखा, “साल 2018-19 और 2022-23 के बीच भाजपा को चुनावी चंदे के रूप में सिर्फ 30 कंपनियों से लगभग 335 करोड़ रुपये मिले हैं।”

उन्होंने कहा, "इन कंपनियों में से 23 कंपनियों ने भाजपा को कुल 187.58 करोड़ रुपये दिए। इन कंपनियों ने 2014 के बाद और रेड पड़ने से पहले भाजपा को किसी भी तरह का चंदा नहीं दिया था।"

कांग्रेस नेता ने कहा कि वे इन व्यापारिक घरानों के खिलाफ दर्ज मामलों या की गई कार्रवाई पर सवाल नहीं उठा रहे हैं। हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि, "ऐसे मामले में जांच की जरूरत है। संदिग्ध कंपनियों के खिलाफ ईडी में मामले दर्ज हैं तो वे सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा को दान क्यों दे रही हैं। क्या यह महज संयोग है कि ईडी की कार्रवाई के बाद वे भाजपा को चंदा दे रहे हैं?'

वेणुगोपाल ने यह भी पूछा कि क्या वित्त मंत्री भाजपा के वित्त पर एक श्वेत पत्र लाएंगी। क्या वह यह बताएंगी कि क्या आपने कॉरपोरेट कंपनियों के खिलाफ जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करके उन्हें दान देने के लिए कैसे मजबूर किया?

कांग्रेस नेता ने कहा, “यदि आपके पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है, तो क्या आप उन घटनाओं के क्रोनोलॉजी पर विस्तार से बताने के लिए तैयार हैं जिनके कारण भाजपा का खजाना भर गया? यदि आप तथ्यों के आधार पर स्पष्टीकरण देने को तैयार नहीं हैं तो क्या आप भाजपा के लिए चंदा जुटाने के लिए इन संदिग्ध और गुपचुप डील की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच के लिए तैयार हैं?''

वहीं, इस मुद्दे पर जयराम रमेश ने कहा, ''हम इस पर सवाल उठाना बंद नहीं करने वाले हैं। हमारे पास कोर्ट जाने जैसे कई विकल्प हैं। हम ईडी और सीबीआई को भी लिखेंगे।'' उन्होंने बीजेपी की कार्रवाई को हफ्ता वसूली करार दिया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें