अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवजोत सिंह सिद्दू के खिलाफ बिहार के बाद कानपुर में परिवाद दर्ज

नवजोत सिंह सिद्धू

पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथग्रहण समारोह में शामिल होकर पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्दू विवादों में घिर गए हैं। बिहार के मुजफ्फरपुर के बाद अब उत्तर प्रदेश के कानपुर में भी नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ परिवाद दाखिल किया गया है। सिद्धू के खिलाफ पाकिस्तान के आर्मी चीफ से गले मिलने पर आपत्ति जताते हुए कोर्ट में परिवाद दाखिल किया गया है। परिवादी ने न्यायाधीश से सिद्धू के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। एमएम सप्तम ने याचिका पर सुनवाई की तिथि 27 अगस्त तय की है। गड़रिया मोहाल निवासी वकील प्रियांशु सक्सेना ने मंगलवार को न्यायालय में याचिका दाखिल की थी।

इससे पहले सिद्धू के खिलाफ बिहार के मुजफ्फरपुर में सोमवार को एक अदालत में मामला दर्ज किया गया। यह मामला पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के रूप में इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तानी सेना प्रमुख को गले लगाने के लिए दर्ज कराया गया है। अधिवक्ता सुधीर ओझा ने मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) की अदालत में सिद्धू के खिलाफ मामला दर्ज कराया। ओझा ने कहा कि उन्होंने सिद्धू के खिलाफ राजद्रोह सहित भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कराया है। न्यूज एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट में बताया गया कि कि अपनी शिकायत में ओझा ने कहा है कि सिद्धू के व्यवहार से देश के लोगों को दुख पहुंचा है। उन्होंने कहा, 'अदालत ने मामला दर्ज कर लिया है और इसकी सुनवाई अगले सप्ताह होगी'।

सिद्धू ने दी बाजवा से गले मिलने पर सफाई :

पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख को गले लगाने के मामले में आलोचना करने वालों को जवाब देते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि जनरल कमर जावेद बाजवा, प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह से पहले उनसे मुश्किल से एक मिनट के लिए ही मिले थे। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, मैं उनसे बाद में नहीं मिला था। सिद्धू ने कहा कि 18 अगस्त को इस्लामाबाद में शपथ ग्रहण समारोह में उनके स्थान को अंतिम समय में बदल दिया गया था और उन्हें नहीं पता था कि कौन उनके पास बैठा है। उन्होंने कहा उनका पाकिस्तान दौरा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि है, जो दोनों देशों के बीच शांति चाहते थे।

मनोज तिवारी ने पाक सेना प्रमुख से गले मिलने पर सिद्धू की आलोचना की

सिद्धू ने कहा कि उन्हें पाकिस्तान में बहुत सारा प्यार और स्नेह मिला और भारत में मिली कुछ प्रतिक्रियाओं ने उन्हें निराश किया। सिद्धू कहा कि वह आमंत्रण और इमरान खान के बार-बार आग्रह करने पर पाकिस्तान गए थे। सिद्धू ने कहा कि हमारी सरकार ने भी मुझे पाकिस्तान जाने की इजाजत दी थी। पाकिस्तान द्वारा मुझे वीजा दिए जाने के दो दिन बाद हमारी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मुझे फोन किया और बताया कि मुझे वहां जाने की इजाजत मिल गई है।

नवजोत सिद्धू बोले- पाकिस्तान आर्मी चीफ को गले लगाना था एक 'भावुक पल'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Complaint filed against navjot singh sidhu in kanpur for hugging pak army chief bajwa