DA Image
22 अक्तूबर, 2020|4:59|IST

अगली स्टोरी

अमेरिका, ब्रिटेन, जापान जैसे देशों में कोरोना वैक्सीन खरीदने की होड़, 2 अरब से ज्यादा डोज की बुकिंग

russia had said the vaccine    sputnik v     named after the world   s first satellite launched by the sov

रूस के विवादास्पद टीके को छोड़ दिया जाए तो दुनिया में अभी तक कोरोना का कोई टीका बाजार में नहीं आया है, लेकिन धनी देशों में टीके को खरीदने की होड़ लग चुकी है। अनुमान है कि 2021 के अंत तक दुनिया में टीकों की चार अरब डोज तैयार हो सकती हैं, लेकिन इनमें से दो अरब से ज्यादा डोज पहले ही धनी देश अपनी जनता के लिए खरीद चुके हैं। कम एवं मध्य आय वाले देश इस दौड़ में पिछड़ गए हैं।

नेचर जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आठ प्रमुख टीकों में से छह टीकों पर धनी देश पहले ही काबिज हो चुके हैं। उन्होंने छह टीकों में दो अरब डोज की बुकिंग कर ली है। वे टीका बनाने वाली कंपनियों के साथ करार कर चुके हैं। उन्हें भुगतान भी कर रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, आस्ट्राजेनिका के टीके के सबसे पहले आने की संभावना है। कंपनी अगले साल के अंत तक 2.94 अरब खुराक तैयार करेगी, जिसमें यूरोप, अमेरिका, ब्रिटेन, जापान तथा 92 लघु एवं मध्यम आय देशों ने 2.4 अरब डोज बुक कराई है। सबसे बड़ी हिस्सेदारी विकसित देशों की है। 

यह भी पढ़ें- कोविड-19 वैक्सीन 'स्पूतनिक-V' को लेकर क्या रूस से होने जा रहा कोई करार? जानिए स्वास्थ्य मंत्रालय का जवाब

दूसरे टीके नोवाक्स  की 1.35 अरब डोज तैयार होने की संभावना है, जिसमें अमेरिका एवं ब्रिटेन ने 16 करोड़, फाइजर के टीके में अमेरिका, जापान एवं ब्रिटेन ने 23 करोड़, मॉडर्ना के टीके में अमेरिका ने 10.45 करोड़, जॉनसन एंड जॉनसन के टीके में यूरोप, अमेरिका एवं ब्रिटेन ने 33 करोड़, स्नोफी के टीके में यूरोप और अमेरिका ने 46 करोड़, वलनेवा टीके में ब्रिटेन ने छह करोड़, सिनोवाक में ब्रिटेन ने 37 करोड़, क्योरवैक में यूरोप ने 22.5 करोड़ खुराक खरीदी हैं। 

कोवाक्स फंड से उम्मीद
गरीब एवं विकासशील देशों को टीके उपलब्ध कराने के लिए ग्लोवल वैक्सीन इनिसियेटिव यानी गावी ने कोवाक्स फंड बनाया है। उसने दो अरब खुराद खरीदने का लक्ष्य रखा है। जिनमें से एक अरब वह 92 कम एवं मध्यम आय देशों को मुफ्त देगी तथा एक अरब टीके 75 धनी देशों को मूल्य लेकर दिए जाएंगे। इस प्रकार धनी देशों को एक अरब टीके इस चैनल से भी मिलने जा रहे हैं, लेकिन गावी को इसके लिए एडवांस 18 अरब डालर कंपनियों को भुगतान करने होंगे।  30 करोड़ का करार वह आस्ट्राजेनिका से कर चुकी है। 

यह भी पढ़ें- भारत में कोरोना वैक्सीन की रेस में कौन सबसे आगे? ICMR के महानिदेशक ने दी जानकारी

ब्रिटेन ने प्रति नागरिक पांच खुराक के हिसाब से खरीद की
ब्रिटेन ने सबसे ज्यादा प्रति नागरिक पांच खुराक के हिसाब से टीके की खरीद आरंभ की है। जबकि अमेरिका एवं यूरोपीय यूनियन दो खुराक प्रति व्यक्ति खरीद रहे हैं। जापान का भी करीब-करीब यही रुख है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि सीरम इंस्टीट्यूट ने आस्ट्राजेनिका के टीके के एक अरब डोज प्रतिवर्ष बनाने का ऐलान किया है, लेकिन इसमें से वह आधे भारत को तथा आधे गावी एवं अन्य देशों को प्रदान करेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Competition to buy Corona vaccine in countries like US UK and Japan