ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशवाराणसी से क्यों खारिज हुआ श्याम रंगीला का नामांकन, कॉमेडियन ने बताई वजह

वाराणसी से क्यों खारिज हुआ श्याम रंगीला का नामांकन, कॉमेडियन ने बताई वजह

पर्चा खारिज होने के बाद श्याम रंगीला ने कहा कि चुनाव आयोग ने इस चुनाव को वाराणसी में खेल बनाकर रख दिया है। मेरा नॉमिनेशन रिजेक्ट कर दिया गया। जब नहीं लेना था, तो लोगों के सामने नाटक क्यों किया था?

वाराणसी से क्यों खारिज हुआ श्याम रंगीला का नामांकन, कॉमेडियन ने बताई वजह
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,वाराणसीWed, 15 May 2024 11:00 PM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए पर्चा भरने वाले कॉमेडियन श्याम रंगीला को करारा झटका लगा है। चुनाव आयोग ने नामांकन पत्रों की जांच के दौरान कॉमेडियन श्याम रंगीला समेत कुल 32 उम्मीदवारों के पर्चे खारिज कर दिए हैं। अब पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी से कुल सात प्रत्याशी ही रह गए हैं। इनमें कांग्रेस, बसपा के उम्मीदवार भी शामिल हैं। श्याम रंगीला का नामांकन खारिज होने के बाद वह काफी नाराज नजर आए। उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर नामांकन खारिज होने की वजह बताते हुए कहा कि डीएम ने बताया है कि मैंने शपथ नहीं ली थी। 

पर्चा खारिज होने के बाद कॉमेडियन श्याम रंगीला ने कहा, ''कल काफी खुशी थी, लोकतंत्र पर भरोसा था, लेकिन 24 घंटे में जैसे खेल में रोमांच होता है, वैसे ही चुनाव आयोग ने इस चुनाव को वाराणसी में खेल बनाकर रख दिया है। मेरा नॉमिनेशन रिजेक्ट कर दिया गया है। जब नहीं लेना था, तो लोगों के सामने नाटक क्यों किया था? डॉक्युमेंट, प्रस्तावक से लेकर सबकुछ थे। आज डीएम ने बताया कि आपके डॉक्युमेंट में कमी है। आपने शपथ नहीं ली है। जो 25-27 लोग गए थे मोदी जी के अलावा किसी को शपथ नहीं दिलाई गई थी। हमारे साथ वकीलों को नहीं भेजा गया। सिर्फ अकेले बुलाया। वजह बताई है कि आपने शपथ नहीं ली है। मैंने कहा कि आपने शपथ नहीं दिलाई तो उन्होंने कहा कि यह हमारा काम नहीं है।'' 

'यहां कैसे पहुंच गए, क्या पिकनिक स्पॉट है'
श्याम रंगीला ने वीडियो में आगे कहा कि हमने रात में एफिडेविट बनवाया और 10 बजे रात में डीएम के ऑफिस पहुंचे। वहां डीएम साहब ने कहा कि ये यहां पर कैसे पहुंच गए। क्या पिकनिक स्पॉट है? हमारी बात सुनने से पहले पुलिसवालों से कहा कि नौकरी चली जाएगी तुम्हारी, इन्हें बाहर निकालो। कॉमेडियन ने कहा कि मैं साल 2014 में सपोर्ट करता था, लेकिन फिर चीजें बदलती हुई देखी। दोपहर में तीन बजे के बाद पुलिसवाले ज्यादा आने लग गए। चार बजे के आसपास चारों तरफ से घेर लिया गया। मारपीट होते हुए देखी है। लोकतंत्र की हत्या मैंने आज देखी है। मैंने डीएम साहब से बाहर निकलते हुए एक ही बात कही कि बहुत धन्यवाद आपका। बनारस की गलियों, यहां के लोगों का बहुत धन्यवाद। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें