ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशपूर्वांचल महोत्सव में बिखरे पुरबिया संस्कृति के रंग, हस्तियों का हुआ सम्मान

पूर्वांचल महोत्सव में बिखरे पुरबिया संस्कृति के रंग, हस्तियों का हुआ सम्मान

पूर्वांचल की संस्कृति को समर्पित माटी न्यास द्वारा सातवां पूर्वांचल महोत्सव गांधी दर्शन, राजघाट पर 10 दिसंबर को सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। मुख्य अतिथि के रूप में हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल मौजूद रहे।

पूर्वांचल महोत्सव में बिखरे पुरबिया संस्कृति के रंग, हस्तियों का हुआ सम्मान
Pankaj Tomarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 11 Dec 2023 07:00 PM
ऐप पर पढ़ें

पूर्वांचल की संस्कृति को समर्पित माटी न्यास द्वारा सातवां पूर्वांचल महोत्सव गांधी दर्शन, राजघाट पर 10 दिसंबर को सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ला मौजूद रहे। इस मौके पर राज्यपाल ने कार्यक्रम में विभिन्न कार्यक्षेत्रों में विशिष्ट उपलब्धियां हासिल करने वाली पूर्वांचली हस्तियों को माटी सम्मान-2023 से सम्मानित भी किया। इनमें आईएफएस अधिकारी महेंद्र कुमार यादव, कृषि वैज्ञानिक पद्मश्री चंद्रशेखर सिंह, लोक गायिका मालिनी अवस्थी, आईटीसी चीफ एग्जिक्यूटिव रजनीकांत राय, अपोलो अस्पताल के एडवाइजर वरिष्ठ कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. एनएन खन्ना (प्रोफेसर), फिल्म और टीवी जगत के बड़े कलाकार रवि दुबे शामिल हैं। 

पूर्वांचल लोक कला में अग्रणी रहा 
अपने उद्बोधन में राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने कहा कि पूर्वांचल लोक कला और लोक संस्कृति में हमेशा अग्रणी रहा है। पूर्वांचल की धरती सनातन संस्कृति की उत्प्रेरक है, माटी न्यास का सारा प्रयास उस महान धरती के लिए है इसलिए इस संस्था का भी विकास जरूरी है। माटी’ न्यास के अध्यक्ष राम बहादुर राय ने कहा, परिवर्तनशील दुनिया में स्थायी चीज अपनी माटी ही है, माटी न्यास इसी संदेश का प्रचारक है। 

हमारी संस्कृति ही हमारी पहचान 
माटी-7 का उद्घाटन मुख्य अतिथि और राज्यसभा सांसद राधामोहन दास अग्रवाल के कर कमलों द्वारा किया गया। अग्रवाल ने माटी की प्रशंसा करते हुए कहा कि हम दुनिया के किसी भी कोने में हों हमारी संस्कृति ही हमारी पहचान होती है। माटी इसी संस्कृति को संजोने का सराहनीय कार्य कर रही है। कार्यक्रम को सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश एवं बीसीसीआई के आचरण अधिकारी और लोकपाल जस्टिस विनीत सरन एवं भारतीय शिक्षा बोर्ड के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. नागेंद्र प्रसाद सिंह ने भी संबोधित किया और पूर्वांचल की प्रतिभाओं को बड़े प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए माटी की सराहना की। 

लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने बांधा समां 
महोत्सव में प्रसिद्ध लोक गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने अवधी लोकरंग एवं राम भक्ति को समर्पित प्रस्तुति से समां बांध दिया। साथ ही बबुआ गोबर्धन नामक भोजपुरी हास्य नाटक भी दर्शकों के लिए मनोरंजन का विषय रहा और लोगों ने जमकर ठहाके लगाए। कार्यक्रम के दौरान पारंपरिक पूर्वांचल मिष्ठान लौंग लता, धोई इमरती, बाटी चोखा और दाल पिट्ठी लोगों को काफी पसंद आई। माटी न्यास की ओर से सभी लोगों के लिए लंच और डिनर का भी इंतजाम किया गया I

पूर्वांचली कला के नमूने भी दिखे 
कार्यक्रम के दौरान बच्चों के लिए बच्चों का माटी के माध्यम से चित्रकारी, पेपर क्राफ्ट तथा ओपन माइक जैसी गतिविधियां सफलतापूर्वक संपन्न की गईं। विभिन्न स्टालों पर पूर्वांचली कला एवं कौशल जैसे बनारसी साड़ी, निजामाबाद के मिट्टी के खिलौने आदि के नमूने भी देखने को मिले। संयोजक आसिफ आजमी, सह-संयोजक विनय सिंह और सह-संयोजक प्रखर मालवीय कान्हा के साथ-साथ सभी माटी सदस्यों ने कार्यक्रम में आने वाले सभी लोगों का धन्यवाद किया। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें