Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसीएम अमरिंदर बोले- दिल्ली सीमाओं पर तनाव टालने के लिए किसान यूनियनों से तुरंत बात करे केंद्र

सीएम अमरिंदर बोले- दिल्ली सीमाओं पर तनाव टालने के लिए किसान यूनियनों से तुरंत बात करे केंद्र

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMrinal Sinha
Fri, 27 Nov 2020 01:37 PM
सीएम अमरिंदर बोले- दिल्ली सीमाओं पर तनाव टालने के लिए किसान यूनियनों से तुरंत बात करे केंद्र

केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों की 'दिल्ली चलो' मुहिम दूसरे दिन भी जारी है। किसान दिल्ली जाने के लिए हरियाणा बॉर्डर पर मौजूद हैं और पुलिस ने उनको रोकने के लिए बैरिकेटिंग कर रखी है। इसके चलते कई जगहों पर लंबा जाम लग गया है। इस बीच पंजाब के मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि- सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र से आग्रह किया कि दिल्ली सीमाओं पर तनावपूर्ण स्थिति को टालने के लिए किसान यूनियनों से तुरंत बातचीत शुरू की जाए।  

कृषि कानूनों के खिलाफ 'दिल्ली चलो मार्च' के तहत शुक्रवार सुबह सिंघु बॉर्डर पर पहुंचे किसानों के एक समूह को तितर-बितर करने के लिए दिल्ली पुलिस ने आंसू गैस के गोले दोगे। सिंघु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर पर किसानों और पुलिस में झड़प देखने को मिली। पुलिस ने वाटर कैनन का भी इस्तेमाल किया। 

बता दें कि हरियाणा बॉर्डर पर किसानों को रोकने भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। दिल्ली आने वाले रास्तों पर बैरीगेड्स के साथ पुलिस से भारी वाहनों को भी खड़ा कर दिया है।
किसानों को रोकने के लिए तमाम इंतजाम किए गए हैं लेकिन इसके बाद भी वे दिल्ली जाने की मांग पर अड़े हुए हैं। कई जगहों पर किसान हिंसक हो गए और उन्होंने पुलिस पर पथराव भी किया है। टिकरी बार्डर से दिल्ली में घुसने की कोशिश करने वाले किसानों को तितर-बितर करने के लिए टियर गैस का भी इस्तेमाल किया।

तीस से अधिक किसान संगठनों का प्रतिनिधित्व करने वाले पंजाब के किसानों ने घोषणा की थी कि वे लालडू, शंभू, पटियाला-पिहोवा, पातरां-खनौरी, मूनक-टोहाना, रतिया-फतेहाबाद और तलवंडी-सिरसा मार्गों से दिल्ली की ओर रवाना होंगे। सभी सीमाओं पर तनाव कायम है। 'दिल्ली चलो' मार्च के लिए किसान अपनी ट्रैक्टर-ट्रॉलियों पर राशन और अन्य आवश्यक सामान के साथ एकत्रित हो गए हैं। हरियाणा सरकार ने किसानों को प्रदर्शन के लिए एकत्रित होने से रोकने के लिए कई इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 भी लागू कर दी है। किसान नये कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि नये कानून से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था समाप्त हो जाएगी।

epaper

संबंधित खबरें