ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशजजों को टिप्पणी करते हुए रहना चाहिए सचेत, CJI चंद्रचूड़ का बड़ा बयान; सोशल मीडिया पर भी बोले

जजों को टिप्पणी करते हुए रहना चाहिए सचेत, CJI चंद्रचूड़ का बड़ा बयान; सोशल मीडिया पर भी बोले

सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा कि तकनीक अब कोई विकल्प नहीं है और इसलिए सोशल मीडिया भी कोई विकल्प नहीं है। हम ऐसे समाज में काम कर रहे हैं जहां सोशल मीडिया का प्रचलन है।

जजों को टिप्पणी करते हुए रहना चाहिए सचेत, CJI चंद्रचूड़ का बड़ा बयान; सोशल मीडिया पर भी बोले
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 16 Nov 2023 09:28 PM
ऐप पर पढ़ें

CJI Chandrachud: कई बार सुप्रीम और हाई कोर्ट के जज किसी मामले की सुनवाई के दौरान ऐसी टिप्पणियां कर देते हैं, जिनकी सोशल मीडिया पर चर्चा होने लगती है। बाद में कई बार फैसला इन टिप्पणियों की तुलना में बिल्कुल अलग आता है। अब चीफ जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा है कि जजों को सोशल मीडिया द्वारा पैदा हुईं चुनौतियों से निपटने के लिए खुद को प्रशिक्षित करना चाहिए। जब अदालती कार्यवाही की लाइव-स्ट्रीमिंग और लाइव रिपोर्ट की जा रही हो तो उन्हें सुनवाई के दौरान की जाने वाली टिप्पणियों को लेकर भी सचेत रहना चाहिए। सीजेआई ने बताया कि नहीं तो, जजों को सोशल मीडिया पर गलत समझे जाने का जोखिम पैदा हो जाता है।

कानूनी मामलों से जुड़ी वेबसाइट बार एंड बेंच के अनुसार, पिछले महीने कानूनी पेशे पर हार्वर्ड लॉ स्कूल सेंटर द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में न्यायपालिका पर सोशल मीडिया के प्रभाव पर एक सवाल का जवाब देते हुए सीजेआई ने यह टिप्पणी की थी। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया के आने से पहले अदालतों में बहुत कम पत्रकार हुआ करते थे। लेकिन अब लाखों पत्रकार हैं जो अदालती कार्यवाही की लाइव रिपोर्टिंग कर रहे हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि सोशल मीडिया न्यायाधीशों के लिए मुद्दे पैदा करता है, सीजेआई चंद्रचूड़ ने यह भी माना कि इस मामले में बहुत कम विकल्प हैं। उन्होंने कहा, "तकनीक अब कोई विकल्प नहीं है और इसलिए सोशल मीडिया भी कोई विकल्प नहीं है। हम ऐसे समाज में काम कर रहे हैं जहां सोशल मीडिया का प्रचलन है।"

उन्होंने कार्यक्रम में कहा कि जजों और वकीलों के बीच बातचीत को अक्सर सोशल मीडिया पर गलत तरीके से पेश किया जाता है जब ऐसी टिप्पणियों की लाइव रिपोर्ट की जाती है। उन्होंने कहा कि दो प्रकार के न्यायाधीश होते हैं - एक जो अपने मन में जो है उसे प्रकट करते हैं और दूसरे जो तर्क दिया गया है उसका सारांश देते हैं। उन्होंने कहा, ''आपके पास जज हैं जो शैतान के वकील की भूमिका निभाते हैं, जो वकील को बताते हैं कि वे उस प्रस्ताव में गलत क्यों हैं, जिसे वे वकील से सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करने के लिए बना रहे हैं। और फिर आपके पास दूसरे प्रकार के न्यायाधीश हैं। दूसरे प्रकार के न्यायाधीश होते हैं जो वकील जो कह रहे हैं उसे दोहराते हैं और उसे उसके तार्किक निष्कर्ष तक ले जाते हैं।''

चीफ जस्टिस चंद्रचूड़ ने आगे कहा कि अक्सर लोग यह मान लेते हैं कि सुनवाई के दौरान जज जो कह रहे हैं वह कोर्ट के संभावित फैसले की ओर इशारा करता है। उन्होंने कहा, ''और इससे एक समस्या पैदा होती है, क्योंकि अदालत में जिस पर बहस हो रही है वह एक बहस है। यह कोई फैसला नहीं है या यह कोई दृष्टिकोण नहीं है। बहस के दौरान मैं जो कहता हूं वह वास्तव में अंतिम निष्कर्ष नहीं हो सकता है, लेकिन मैं संवाद के उद्देश्य से इसका परीक्षण कर रहा हूं। यह एक समस्या है।''उन्होंने यह भी कहा कि एक ट्रायल जज जो किसी मामले की सुनवाई कर रहा है, उसके पास पहले से ही समाचारों, विचारों की बाढ़ आ गई होती है। सीजेआई चंद्रचूड़ ने यह भी खुलासा किया कि वह एक्स या फेसबुक पर नहीं हैं, लेकिन अखबार पढ़ते हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें