DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू किए जाने को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने बताए कई फैक्टर्स

देशअंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू किए जाने को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने बताए कई फैक्टर्स

एजेंसी ,नई दिल्ली।Published By: Rajesh Kumar
Mon, 01 Jun 2020 09:35 PM
अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू किए जाने को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने बताए कई फैक्टर्स

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सोमवार को कहा कि भारत में अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों को फिर से शुरू किए जाने के पहले महानगरों में लॉकडाउन और कई देशों की तरफ से विदेशी नागरिकों के प्रवेश पर प्रतिबंध जैसे मुद्दों के हल की जरूरत है।कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन लागू होने के कारण भारत में घरेलू विमान सेवाओं को रद्द कर दिया गया था और 25 मई को दो महीने के अंतराल के बाद घरेलू उड़ानें फिर से शुरू हो गईं। लेकिन देश में अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें अब भी स्थगित हैं।

पुरी ने ट्विटर पर कहा, ''कई नागरिकों ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए हमसे संपर्क किया है। इसके लिए कई मुद्दों का हल करने की आवश्यकता है। कई अंतरराष्ट्रीय गंतव्य अपने नागरिकों या राजनयिकों को छोड़कर दूसरे यात्रियों को आने की अनुमति नहीं दे रहे हैं।'' 

उन्होंने कहा कि भारत में अधिकतर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें महानगरों से चलती हैं जहां यात्री पड़ोसी शहरों और राज्यों से आते हैं। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन 5.0 के लिए गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों में राज्यों के अंदर और अंतर-राज्यीय यात्रा को खोल दिया गया है।उन्होंने कहा ''जैसे ही हम 50-60 प्रतिशत घरेलू उड़ानों के संचालन की ओर बढ़ेंगे, अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने की हमारी क्षमता में भी सुधार होगा।''

ये भी पढ़ें: अमेठी में लगा लापता का पोस्टर तो स्मृति ईरानी ने सोनिया से पूछे सवाल

501 घरेलू उड़ानों से रविवार को 44,593 लोगों ने की यात्रा

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सोमवार को बताया कि 31 मई को देश भर में कुल 501 घरेलू उड़ानों का संचालन किया गया, जिनमें 44,593 लोगों ने यात्रा की। कोरोना वायरस संक्रमण को काबू करने के लिए लागू लॉकडाउन की वजह से देश में घरेलू विमान सेवाएं निलंबित कर दी गई थीं और दो महीने तक बंद रहने के बाद इन्हें 25 मई को बहाल किया गया।

भारतीय विमानन कंपनियों ने 31 मई तक 3,370 उड़ानों का संचालन किया। इनमें 25 मई को 428, 26 मई को 445, 27 मई को 460, 28 मई को 494, 29 मई को 513 और 30 मई को 529 उड़ानें संचालित की गईं। पुरी ने सोमवार को ट्वीट किया, ''31 मई 2020 (सातवें दिन) को देर रात 11 बजकर 59 मिनट तक 501 विमानों ने प्रस्थान किया, जिनमें 44,593 यात्रियों ने उड़ान भरी। कुल 501 उड़ानों का आगमन हुआ, जिनमें 44,678 लोगों ने यात्रा की।

प्रस्थान करने वाले विमानों को ही दिन की उड़ान के रूप में गिना जाता है। विमानन उद्योग के सूत्रों ने बताया कि लॉकडाउन से पहले भारतीय हवाईअड्डे रोजाना करीब 3,000 घरेलू उड़ानें संचालित करते थे। नागर विमानन निदेशालय के आंकड़ों के अनुसार फरवरी में भारत में रोजाना करीब चार लाख 12 हजार यात्रियों ने घरेलू उड़ानों से यात्रा की।

पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगाना और तमिलनाडु ने राज्य में सीमित उड़ानों की ही मंजूरी दी है क्योंकि वह कोविड-19 के संक्रमण के मामलों में वृद्धि नहीं होने देना चाहते हैं। आंध्र प्रदेश में घरेलू उड़ान सेवा मंगलवार को और पश्चिम बंगाल में गुरुवार को बहाल हुई।

ये भी पढ़ें: क्यों रसोई गैस पर बढ़ाया गया 11.50 रुपये प्रति सिलेंडर? ये है वजह

संबंधित खबरें