DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिट फंड केस: कोलकाता पुलिस कमिश्नर के घर जाने वाली CBI टीम हिरासत में

एएनआई फोटो

1 / 2एएनआई फोटो

एएनआई फोटो

2 / 2एएनआई फोटो

PreviousNext

चिटफंड घोटाला मामलों की जांच कर रही सीबीआई की एक टीम कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के आवास पर पहुंची है। सीबीआई अधिकारियों को कोलकाता पुलिस आयुक्त के आवास के बाहर रोका गया है। समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार कोलकाता पुलिस आयुक्त के आवास के बाहर से सीबीआई के पांच अधिकारियों को हिरासत में लिया गया है।

 

सीबीआई टीम को अभी पुलिस स्टेशन में रखा गया है। सीबीआई से टकराव के हालात के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता के पुलिस आयुक्त के आवास पर पहुंचीं। वहीं कोलकाता में सीबीआई मुख्यालय के बाहर पुलिस का जमावड़ा है।

 

बता दें कि केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने शनिवार को दावा किया कि राजीव कुमार फरार हैं और शारदा एवं रोज वैली पोंजी घोटालों के सिलसिले में उनकी तलाश की जा रही है। 

 

बहरहाल कोलकाता पुलिस की ओर से जारी बयान में सीबीआई के दावों को ''आधारहीन बताते हुए इसे खारिज किया गया है। बयान के अनुसार, ''यह सब आधारहीन खबरें हैं। कृपया ध्यान दें कि सीपी (पुलिस आयुक्त) कोलकाता न सिर्फ शहर में मौजूद हैं बल्कि 31.01.2019 को छोड़कर वह नियमित रूप से दफ्तर भी आ रहे हैं, उस दिन वह छुट्टी पर थे।

 

इसमें बिना उचित पुष्टि के इस तरह की भ्रामक खबरें फैलाने के लिये सख्त कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी गयी है। बयान के अनुसार, ''सभी संबंधित लोग कृपया इस बात पर ध्यान दें कि अगर बिना उचित पुष्टि के इस तरह की खबरें फैलायी गयीं तो कोलकाता पुलिस सीपी कोलकाता और कोलकाता पुलिस दोनों को बदनाम करने के लिये सख्त कानूनी कार्रवाई शुरू करेगी।

इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रोज वैली और शारदा पोंजी घोटाला मामलों में सीबीआई की ओर से तलब किए गए कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के प्रति रविवार को अपना समर्थन जताया। उन्होंने भाजपा नेतृत्व पर बदले की भावना वाली राजनीति करने का आरोप लगाया।

बिहार : सीमांचल एक्सप्रेस के 11 डब्बे पटरी से उतरे, 6 की मौत

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि ''भगवा पार्टी पुलिस और अन्य संस्थानों को नियंत्रण में लेने के लिये सत्ता का गलत इस्तेमाल कर रही है। बनर्जी ने ट्वीट किया, ''भाजपा नेतृत्व का शीर्ष स्तर राजनीतिक बदले की ओछी भावना से काम कर रहा है। न सिर्फ राजनीतिक दल उनके निशाने पर हैं बल्कि पुलिस को नियंत्रण में लेने और संस्थानों को बर्बाद करने के लिये वे सत्ता का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। हम इसकी निंदा करते हैं।

केंद्रीय जांच एजेंसी के अधिकारियों ने बताया कि आईपीएस अधिकारी ने इन घोटालों की जांच कर रहे पश्चिम बंगाल पुलिस के विशेष जांच दल का नेतृत्व किया था और वह एजेंसी के समक्ष पेश होने के लिये भेजे नोटिसों का जवाब नहीं दे रहे हैं। बनर्जी ने आरोप लगाया कि भाजपा कुमार के बारे में ''झूठ फैला रही है। कुमार 1989 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं और जनवरी 2016 में उन्होंने शहर के पुलिस प्रमुख का कार्यभाल संभाला था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Chit fund case CBI team outside the residence of Kolkata Police Commissioner Rajeev Kumar