DA Image
30 अक्तूबर, 2020|10:42|IST

अगली स्टोरी

चीनी राजदूत ने गलवान घाटी हिंसक झड़प को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, PM मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' ने बढ़ाई चीन की चिंता

photo courtesy  china daily

भारत में चीनी राजदूत सन वेइदॉन्ग ने गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। आपको बता दें कि इस झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे, वहीं चीन के 40 से अधिक सैनिकों की भी मौत हो गई थी। चीनी राजदूत ने इस कहा कि यह इतिहास के परिप्रेक्ष्य से संक्षिप्त क्षण है।

चीन-भारत युवा वेबिनार में चीनी राजदूत ने कहा, "कुछ ही समय पहले सीमावर्ती क्षेत्रों में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई थी, जिसे न तो चीन और न ही भारत देखना पसंद करेगा। अब हम इसे ठीक से संभालने के लिए काम कर रहे हैं। यह इतिहास के परिप्रेक्ष्य में एक संक्षिप्त क्षण है।" 

वेइदॉन्ग ने कहा कि 70 साल पहले चीन और भारत के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के बाद से द्विपक्षीय संबंधों में परीक्षण कम हुए हैं और वे अधिक अस्थिर हो गए हैं। उन्होंने कहा, "एक समय में एक बात से परेशान नहीं होना चाहिए। इस नई सदी में द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ना चाहिए, न कि उसे बिगारना चाहिए।"

यह भी पढ़ें- चीन सीमा पर कुछ बड़ा होने वाला है? कंधे पर रखकर दागी जाने वाली मिसाइलों संग जवान तैनात

चीनी राजदूत इस बात से आश्वस्त थे कि चीन और भारत में द्विपक्षीय संबंधों को ठीक से संभालने की समझदारी और क्षमता है। उन्होंने कहा, "चीन, भारत को एक प्रतिद्वंद्वी के बजाय एक साथी और खतरे के बजाय एक अवसर के रूप में देखते है। हम द्विपक्षीय संबंधों में एक उचित स्थान पर सीमा विवाद को रखने की उम्मीद करते हैं। साथ ही संवाद और परामर्श के माध्यम से मतभेदों को ठीक से संभालने और द्विपक्षीय संबंधों को पहले की तरह वापस ट्रैक पर लाने की उम्मीद करते हैं।" चीनी राजदूत वेइदॉन्ग ने कहा कि भारत और चीन को शांति से रहना चाहिए और संघर्ष से बचना चाहिए।

आत्मनिर्भार भारत अभियान ने बढ़ाई चीन की चिंता
कोरोना माहामारी और चीन के साथ बिगड़े संबंधों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'आत्मनिर्भर भारत' का नारा दिया है। इसने चीन की चिंता बढ़ा दी है। वेबिनार के दौरान उन्होंने आगे कहा, "कोई भी देश बाकी दुनिया से अलग-थलग होकर अपने दम पर विकास की तलाश नहीं कर सकता है। हमें न केवल आत्मनिर्भरता का पालन करना चाहिए, बल्कि वैश्वीकरण की प्रवृत्ति के अनुरूप बाहरी दुनिया के लिए भी खुलकर रहना चाहिए। इसी से हम बेहतर विकास हासिल कर सकते हैं।"

यह भी पढ़ें- चीन के साथ तनातनी के बीच बिना किसी रुकावट तीसरे रास्ते ऐसे लद्दाख पहुंचेगी भारतीय सेना

चीनी राजदूत ने जोर देकर कहा कि चीन और भारत के बीच आर्थिक पूरकता बहुत मजबूत है। उन्होंने कहा, "चीन कई वर्षों तक भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार रहा है, जबकि भारत दक्षिण एशिया में भी चीन का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार भी है। चीनी और भारतीय अर्थव्यवस्थाएं परस्पर जुड़ी हुई हैं और अन्योन्याश्रित हैं। मुझे लगता है कि चीन और भारत की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं को एक-दूसरे को चुंबक की तरह आकर्षित करना चाहिए, न कि उन्हें जबरदस्ती अलग करना चाहिए।"

चीनी राजदूत ने कहा कि भाषा सीखना दोनों देशों के लोगों और लोगों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान में अपरिहार्य है, जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। उन्होंने इसे राजनीति से इतर रखने की बात कही।

यह भी पढ़ें- भारत से कारोबार में मिले झटके के बाद चीन ने बिजनेस के लिए इस देश को चुना

आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच अप्रैल-मई से फ़िंगर एरिया, गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग्स और कोंगरुंग नाला सहित कई क्षेत्रों में चीनी सैनिकों के द्वारा किए किए गए बदलाव को लेकर गतिरोध बना हुआ है। दोनों पक्षों के बीच पिछले तीन महीनों से बातचीत चल रही है, जिसमें पांच लेफ्टिनेंट स्तर की वार्ता शामिल है। इसके बावजूद अभी तक कोई भी परिणाम नहीं निकल पाया है।

हालांकि सीमा विवाद को सुलझाने के प्रयास चल रहे हैं। भारत ने पूर्वी लद्दाख में फिंगर एरिया से समान रूप से वापस हटने के चीनी सुझाव को खारिज कर दिया है। इस महीने की शुरुआत में चीन ने उम्मीद जताई थी कि भारत कन्फ्यूशियस संस्थानों के साथ उद्देश्यपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से व्यवहार करेगा।

एक बयान में चीनी दूतावास ने भारत से सामान्य सहयोग के राजनीतिकरण से बचने और चीन-भारत के लोगों और लोगों से सांस्कृतिक आदान-प्रदान के स्वस्थ और स्थिर विकास को बनाए रखने के लिए कहा था। यह टिप्पणी भारत द्वारा कन्फ्यूशियस संस्थानों के स्थानीय अध्यायों और भारतीय विश्वविद्यालयों के साथ किए गए समझौतों की व्यापक समीक्षा शुरू होने के बाद आई है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chinese Ambassador terms Galwan clash as unfortunate says india is business partner of China