DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा में गूंजा मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत का मामला, लीची से जोड़ने के दावों की जांच की मांग

skmch hospital muzaffarpur  file pic

भाजपा के एक सदस्य ने शुक्रवार को लोकसभा में सरकार से इस बात की जांच कराने की मांग की कि बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम से बच्चों की मौत के मामले में लीची को जिम्मेदार ठहराना कहीं इस फल को बदनाम करने की साजिश तो नहीं है। बिहार के सारण से लोकसभा सदस्य राजीव प्रताप रूड़ी ने शून्यकाल में इस विषय को उठाया और कहा कि मुजफ्फरपुर में हालात बहुत चिंताजनक हैं।

उन्होंने कहा, ''हमें बताया गया है कि मुजफ्फरपुर में बच्चों द्वारा लीची का सेवन करना इन्सेफेलाइटिस का कारण हो सकता है। हम बचपन से लीची खा रहे हैं लेकिन हमें इन्सेफेलाइटिस नहीं हुआ। रूड़ी ने कहा कि कुछ भ्रामक जानकारी की वजह से कई लोगों ने लीची खाना और लीची का जूस पीना बंद कर दिया है।
उन्होंने कहा, ''सरकार को जांच करानी चाहिए कि मुजफ्फरपुर में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम से बच्चों की मौत को लीची खाने से जोड़ना कहीं भारतीय लीची उत्पादक किसानों के हितों को नुकसान पहुंचाने का षड्यंत्र तो नहीं है।

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में इन्सेफेलाइटिस से पिछले कुछ दिन में 100 से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है। कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार के लापरवाही पूर्ण रवैये के कारण बिहार में हालात सुधर नहीं रहे और एईएस की वजह से गरीब बच्चों की मौत हो रही है। चौधरी ने यह भी कहा कि बिहार में रोगियों और डॉक्टरों का अनुपात भी बहुत कम है।
 
केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में कुपोषण को लेकर पूछे गए एक पूरक प्रश्न के जवाब में कहा कि बिहार के मुजफ्फरपुर में कुपोषण की घटना भले ही उनके मंत्रालय से संबंधित नहीं है लेकिन वह एक मां हैं और मुजफ्फरपुर के बच्चों की माताओं की स्थिति को वह बखूबी महसूस करती हैं।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:children death in Muzaffarpur Issue raises in Lok sabha in Lok Sabha