DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घाटी में पटरी पर जिंदगी, जल्द खत्म होंगी बाकी बंदिशें; सोमवार से खुलेंगे स्कूल

restrictions and night curfews were imposed in several districts of jammu and kashmir after the cent

1 / 4Restrictions and night curfews were imposed in several districts of Jammu and Kashmir after the Centre decided to scrap Article 370 of the Constitution.(AP file photo)

security personnel stand guard during restrictions  in srinagar   pti

2 / 4Security personnel stand guard during restrictions, in Srinagar. (PTI)

jammu  army personnel stand guard during restrictions  in jammu  monday  aug 05  2019 restrictions a

3 / 4Jammu: Army personnel stand guard during restrictions, in Jammu, Monday, Aug 05, 2019.Restrictions and night curfews were imposed in several districts of Jammu and Kashmir as the Valley remained on edge with authorities stepping up security deployment.(PTI)

j k chief secretary  bvr subrahmanyam in srinagar during press conference  ani twitter pic

4 / 4J&K Chief Secretary, BVR Subrahmanyam in Srinagar during Press Conference (ANI Twitter Pic)

PreviousNext

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद- 370 हटाए जाने और राज्य के पुनर्गठन के बाद घाटी में बने हालात तेजी से बदल रहे हैं। शुक्रवार देर रात से कई स्थानों पर संचार सेवा बहाल हो गईं, तो सोमवार से स्कूल खुलने लगेंगे। सड़कों पर यात्री वाहनों की आवाजाही भी शुरू हो जाएगी। राज्य के मुख्य सचिव बी. आर. सुब्रमण्यम ने यह जानकारी दी। 

मुख्य सचिव ने बताया कि सीमापार से होनेवाले आतंकवाद को देखते हुए केंद्र सरकार की तरफ से सावधानी भरे कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्थिति पूरी तरह से सामान्य है और अभी तक किसी मौत की खबर नहीं है और न ही किसी के गंभीर तौर पर घायल होने की खबर नहीं है। आने वाले दिनों में पाबंदियों में छूट दी जाएगी। 

दफ्तरों में कामकाज शुरू :
घाटी में शुक्रवार को राज्य सरकार के कार्यालयों में सामान्य ढंग से कामकाज हुआ जबकि स्कूल अगले सप्ताह फिर खुलेंगे। सुब्रमण्यम ने बताया कि पांच अगस्त को जब पाबंदियां लगाई गईं , तब से कोई जनहानि नहीं हुई। मुख्य सचिव ने यह भी कहा कि राज्य के 12 जिलों में सामान्य रूप से कामकाज हो रहा है जबकि मात्र पांच जिलों में भी सीमित पाबंदियां ही हैं

ये भी पढ़ें: पोखरण में राजनाथ सिंह ने न्यूक्लियर पॉलिसी को लेकर दिया ये बड़ा बयान

जरूरी समानों की पूर्ति हो रही :
मुख्य सचिव ने कहा कि लोगों को जरूरी सामान, दवाइयों की कोई कमी न हो इसका ध्यान रखा गया। हज से आने और जाने वाले यात्रियों का खास ख्याल रखा गया ताकि उन्हें कोई परेशानी न हो। मीडियाकर्मियों के लिए भी पर्याप्त संख्या में पास दिए गए ताकि वह अपना काम कर सकें। शनिवार और रविवार को ईद से पहले पर्याप्त छूट दी गई थी। 14-15 अगस्त को खास तौर पर कुछ अतिरिक्त सतर्कता रखी गई। सीमापार की गतिविधियों को देखते हुए यह अतिरिक्त सतर्कता परिस्थितिजन्य थी। पाकिस्तान की ओर से लगातार शांतिपूर्ण स्थिति को खत्म करने की कोशिश की जा रही है।

ये भी पढ़ें: आर्टिकल 370 वही हटा सकता था जिसके मन में वोट बैंक का लालच न हो: शाह

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Chief Secretary of Jammu and Kashmir said-Law and order should remain hence ban implemented