Chandrayaan2 behind the scenes footage of mission Chandrayaan 2 ISRO - चंद्रमा पर चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग से पहले ISRO ने जारी किया वीडियो, देखें यह खास फुटेज DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चंद्रमा पर चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग से पहले ISRO ने जारी किया वीडियो, देखें यह खास फुटेज

mission chandrayaan 2

दुनिया के सामने अपना लोहा मनवाने और अंतरिक्ष में लंबी छलांग लगाने के मकसद से भारत सोमवार को दूसरे चंद्र मिशन 'चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण करेगा। इसे बाहुबली नाम के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी-एमके तृतीय यान से भेजा जाएगा। चंद्रयान-2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरेगा जहां अभी तक कोई देश नहीं पहुंच पाया है। इससे चांद के बारे में समझ सुधारने में मदद मिलेगी जिससे ऐसी नयी खोज होंगी जिनका भारत और पूरी मानवता को लाभ मिलेगा। तीन चरणों का 3,850 किलोग्राम वजनी यह अंतरिक्ष यान ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर के साथ यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से सुबह दो बजकर 51 मिनट पर आकाश की ओर उड़ान भरेगा।

चंद्रमा पर भारत के दूसरे मिशन चंद्रयान-2 की सोमवार को तड़के 2.51 बजे लॉन्चिंग के बाद पहले 17 दिन यह पृथ्वी की कक्षा में ही रहेगा जहां से अगले पांच दिन में इसे चांद की कक्षा में स्थानांतरित किया जाएगा। यह मिशन इसरो के इतिहास के सबसे कठिन मिशनों में से एक है। 

यह भी पढ़ें - Chandrayaan 2: जानें क्या-क्या पता लगाएगा चंद्रयान-2, क्या है इसमें खास

इसरो ने रविवार को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो जारी किया है, जिसमें उसने वीडियो के जरिये मिशन चंद्रयान-2 के बनने की कहानी को दिखाया है। इस वीडियो में कुछ एक्स्क्लूसिव फुटेज हैं, जिनमें देखा जा सकता है कि कैसे इस मिशन को पूरा करने के लिए काम किया गया और अलग-अलग कंपोनेंट को साथ लाया गया। 

पहले चंद्र मिशन की सफलता के 11 साल बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) भू-समकालिक प्रक्षेपण यान जीएसएलवी-एमके तृतीय से 978 करोड़ रुपये की लागत से बने 'चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण करेगा। इसे चांद तक पहुंचने में 54 दिन लगेंगे। इसरो के अधिकारियों ने बताया कि गत सप्ताह अभ्यास के बाद रविवार को इस मिशन के लिए उल्टी गिनती शुरू हो गई है।

रविवार को इसरो ने कहा कि जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम1/चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती भारतीय समयानुसार छह बजकर 51 मिनट पर आज (रविवार) शुरू की गई। इसरो का सबसे जटिल और अब तक का सबसे प्रतिष्ठित मिशन माने जाने वाले 'चंद्रयान-2 के साथ भारत, रूस, अमेरिका और चीन के बाद चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने वाला चौथा देश बन जाएगा। तिरुमला में शनिवार को भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा-अर्चना करने के बाद इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने बताया कि 'चंद्रयान-2 के 15 जुलाई को तड़के दो बजकर 51 मिनट पर प्रक्षेपण के कार्यक्रम के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है।

यह भी पढ़ें- विदेशी मीडिया ने चंद्रयान-2 को बताया 'एवेंजर्स एंडगेम' से कम खर्चीला

स्वदेशी तकनीक से निर्मित चंद्रयान-2 में कुल 13 पेलोड हैं। आठ ऑर्बिटर में, तीन पेलोड लैंडर 'विक्रम और दो पेलोड रोवर 'प्रज्ञान में हैं। पांच पेलोड भारत के, तीन यूरोप, दो अमेरिका और एक बुल्गारिया के हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद श्रीहरिकोटा में प्रक्षेपण होते हुए देखेंगे। प्रक्षेपण के करीब 16 मिनट बाद जीएसएलवी-एमके तृतीय चंद्रयान-2 को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करेगा। लैंडर 'विक्रम का नाम भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान कार्यक्रम के जनक डॉ. विक्रम ए साराभाई के नाम पर रखा गया है। दूसरी ओर, 27 किलोग्राम 'प्रज्ञान का मतलब संस्कृत में 'बुद्धिमता है। (इनपुट एजेंसी)
    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Chandrayaan2 behind the scenes footage of mission Chandrayaan 2 ISRO