ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशचंद्रयान के बाद अब चांद पर कब लैंडिंग कर सकता है पहला भारतीय, ISRO चीफ ने बताई तारीख

चंद्रयान के बाद अब चांद पर कब लैंडिंग कर सकता है पहला भारतीय, ISRO चीफ ने बताई तारीख

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन चीफ एस सोमनाथ ने कहा, 'यह कम खर्च का काम नहीं होने वाला है। इंसान को चांद पर भेजने के लिए... हमें लॉन्चिंग की क्षमता, लैब और सिम्युलेशन सिस्टम विकसित करने होंगे...।

चंद्रयान के बाद अब चांद पर कब लैंडिंग कर सकता है पहला भारतीय, ISRO चीफ ने बताई तारीख
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 08:29 AM
ऐप पर पढ़ें

ISRO (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) पहले ही चांद की सतह पर चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग कराकर इतिहास रच चुका है। अब स्पेस एजेंसी चांद पर इंसान को भेजने की तैयारी भी कर रही है। इसरो चीफ एस सोमनाथ ने ऐसे संकेत दिए हैं। हालांकि, उन्होंने इसके लिए 2040 का जिक्र किया है। सोमवार को उन्होंने चांद पर इंसान को भेजने की प्रक्रिया में आने वाली चुनौतियों का भी जिक्र किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सोमनाथ ने कहा, 'हमें स्पेस में जीरो ग्रैविटी वातावरण के लिए एक टेक्नोलॉजी साइंस मैप तैयार करना होगा। जब हम गगनयान मिशन के जरिए उन प्रयोगों के बारे में सोचते हैं, जो हम करना चाहते हैं...। कम से कम पांच लोगों को शॉर्टलिस्ट किया गया है...। मेरे लिए वो बहुत ज्यादा रोमांचित करने वाला प्रयोग नहीं है। इस मिशन के साथ-साथ हमें चांद के मिशन के लिए भी क्षमताओं का विस्तार करना होगा।'

उन्होंने कहा कि हमारी पहुंच चांद तक भी होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि अंत में हम यही चाहते हैं कि साल 2040 तक एक भारतीय व्यक्ति चांद की सतह पर लैंडिंग करे। हालांकि, उन्होंने साफ किया कि चांद का यह मिशन ऐसे ही अचानक से नहीं होगा और इसे पूरा करने के लिए कई अभ्यास मिशनों से गुजरना होगा।

उन्होंने कहा, 'यह कम खर्च का काम नहीं होने वाला है। इंसान को चांद पर भेजने के लिए... हमें लॉन्चिंग की क्षमता, लैब और सिम्युलेशन सिस्टम विकसित करने होंगे। ये सब एक बार में तैयार नहीं होता है। इसे कई बार करना होगा। इसके बाद ही भारत से चांद के लिए मानव मिशन संभव हो सकेगा।'

इस दौरान उन्होंने दुनिया के अन्य देशों में जारी चांद पर इंसान को भेजने की कवायद का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'कई अन्य देश भी चांद पर जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका, चीन और अन्य देशों में दिलचस्पी फिर से बढ़ गई है।' उन्होंने कहा, 'हमारे पास स्पेस स्टेशन (भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन) होना जरूरी है...। हमें 2028 तक पहले मॉड्यूल में ऑर्बिट में स्थापित होना है और फुल मॉड्यूल 2035 तक पूरा हो जाना चाहिए, जिसका मतलब इंसान के वहां लंबे समय तक रहने की क्षमता है।'

उन्होंने अलग-अलग ग्रहों के मिशन पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा, 'जब आप शुक्र ग्रह, उसके एटमॉस्पीयर, सर्फेस टोपोग्राफी, डस्ट, वोल्कैनिज्म, बड़े बादल और बिजली की ओर देखते हैं, तो मुझे ऐसा लगता है कि यह खोज करने के लायक है। ऐसी ही संभावनाएं मंगल पर भी लैंडिंग करने पर हैं...।' उन्होंने जानकारी दी है कि इसरो चांद की सतह से सैंपल लाने पर भी चर्चा कर रही है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें