ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशChandrayaan 3 से धमाल मचाने वाले ISRO चीफ सोमनाथ ने लिया ये बड़ा फैसला

Chandrayaan 3 से धमाल मचाने वाले ISRO चीफ सोमनाथ ने लिया ये बड़ा फैसला

Chandrayaan 3: इसरो प्रमुख सोमनाथ ने कहा कि उन्होंने सामना की गई कुछ चुनौतियों का उल्लेख करने वाली अपनी आत्मकथा 'निलावु कुदिचा सिम्हंगल' को प्रकाशित नहीं करने का फैसला किया है।

Chandrayaan 3 से धमाल मचाने वाले ISRO चीफ सोमनाथ ने लिया ये बड़ा फैसला
Madan Tiwariएजेंसी,नई दिल्लीSat, 04 Nov 2023 09:51 PM
ऐप पर पढ़ें

Chandrayaan 3: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष और चंद्रयान-3 को सफल लैंड करवाकर धमाल मचाने वाले एस. सोमनाथ ने शनिवार को कहा कि उन्होंने अपनी आत्मकथा को प्रकाशित नहीं करने का फैसला लिया है। इसरो प्रमुख की आत्मकथा में उनके पूर्ववर्ती के. सिवन के बारे में कुछ आलोचनात्मक टिप्पणियां किए जाने को लेकर उपजे विवाद के बाद सोमनाथ का यह बयान आया है। सिवन के बारे में किए गए खुलासे से हड़कंप मच गया था। दावा किया गया था कि सिवन ने सोमनाथ को इसरो चीफ बनने से रोकने की कोशिश की थी।

सोमनाथ ने कहा कि उन्होंने अंतरिक्ष एजेंसी में अपनी दशकों लंबी यात्रा के दौरान सामना की गई कुछ चुनौतियों का उल्लेख करने वाली अपनी आत्मकथा 'निलावु कुदिचा सिम्हंगल' को प्रकाशित नहीं करने का फैसला किया है। इससे पहले दिन में, सोमनाथ ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा था कि किसी संगठन में शीर्ष पद तक पहुंचने की यात्रा के दौरान प्रत्येक व्यक्ति को किसी न किसी तरह की चुनौतियों से गुजरना पड़ता है और उन्होंने भी जीवन में ऐसी कठिनाइयों का सामना किया है। तब सोमनाथ उस रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया दे रहे थे, जिसमें दावा किया गया है कि इसरो प्रमुख की आत्मकथा में उनके पूर्ववर्ती सिवन के बारे में कुछ आलोचनात्मक टिप्पणियां की गई हैं।

सोमनाथ ने कहा, ''ऐसे प्रमुख पदों पर रहने वाले व्यक्तियों को कई चुनौतियों से गुजरना पड़ सकता है। उनमें से एक संगठन में पद पाने संबंधी चुनौतियां भी हैं।'' उन्होंने कहा कि ये ऐसी चुनौतियां हैं, जिनसे हर किसी को गुजरना पड़ता है। इसरो प्रमुख ने कहा, ''एक महत्वपूर्ण पद के लिए अधिक व्यक्ति पात्र हो सकते हैं। मैंने बस उस विशेष बिंदु को सामने लाने की कोशिश की। मैंने इस संबंध में किसी व्यक्ति विशेष को निशाना नहीं बनाया।'' सोमनाथ ने स्वीकार किया कि उन्होंने अपनी पुस्तक में चंद्रयान-2 मिशन की विफलता की घोषणा के संबंध में स्पष्टता की कमी का उल्लेख किया है। इसरो अध्यक्ष ने दोहराया कि उनकी आत्मकथा उन लोगों को प्रेरित करने का एक प्रयास है, जो जीवन में चुनौतियों और बाधाओं से लड़कर कुछ हासिल करना चाहते हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें