DA Image
30 मार्च, 2020|1:07|IST

अगली स्टोरी

PFI पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी, CAA के खिलाफ हिंसा में आया था नाम

bharat band against caa citizenship amendment act protesters on streets in banka

केंद्र सरकार सीएए के खिलाफ हिंसा में कई जगहों पर पीएफआई का नाम आने के बाद संगठन को प्रतिबंधित करने की तैयारी कर रही है। इसके साथ ही सरकार इसके बैनर तले काम कर रहे प्रमुख लोगों के खिलाफ यूएपीए ऐक्ट के तहत कार्रवाई कार्रवाई कर सकती है। एक अधिकारी ने कहा कि संगठन को प्रतिबंधित करने पर नाम बदलकर गतिविधियां शुरू हो जाती हैं। लिहाजा हम संगठन के मुखिया सहित ऐसे लोगों पर कार्रवाई कर सकते हैं, जो देश में हिंसा फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं।

अधिकारी ने कहा कि दिल्ली हिंसा में भी पीएफआई की भूमिका की जांच एजेंसियां करेंगी। फिलहाल यूपी के कई हिस्सों में इस संगठन से जुड़े लोगों की भूमिका पर सरकार के पास रिपोर्ट है। अन्य तथ्य एकत्र किए जा रहे हैं। सरकार कानूनी पहलुओं को भी खंगाल रही है। जिससे कार्रवाई पर सवाल न उठाया जा सके।

CAA के विरोध में आए प्रदर्शनकारियों को पेंशन देने की मांग, उत्तर प्रदेश विधानसभा में हंगामा

गौरतलब है कि यूएपीए के तहत व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार एजेंसियों को दिया गया है। पहले संगठन को ही प्रतिबंधित किया जाता था, लेकिन कानून में संशोधन के बाद यह रास्ता साफ हो गया है कि अगर कोई व्यक्ति देश को नुकसान पहुंचाने के लिए उग्रवादी या आतंकी गतिविधियों में शामिल है तो उसे आतंकी घोषित करके उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। ऐसे व्यक्तियों की संपत्ति जब्त करने का अधिकार भी कानून प्रवर्तन एजेंसियों के पास है।

अभी तक यूएपीए संशोधन का केवल विदेशी आतंकियों के खिलाफ उपयोग किया गया है। मसूद अजहर, हाफिज सईद और दाऊद इब्राहिम को संशोधित कानून के तहत आतंकी घोषित किया गया था। सूत्रों ने कहा कि मामला पेचीदा है, इसलिए कार्रवाई में देरी हो रही है। एजेंसियों को कहा गया है कि वे व्यक्तिगत गतिवधियों पर पूरी रिपोर्ट तैयार करें, जिससे देश के अलग अलग हिस्सों में पीएफआई व अन्य नामों से अस्थिरता फैलाने वाले लोगों पर शिकंजा कसा जा सके। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि गृहमंत्रालय के पास पीएफआई और इससे जुड़े कुछ लोगों के बारे में रिपोर्ट आई है इस पर गौर किया जा रहा है।

अलीगढ़ में CAA पर बवाल को लेकर दहशत में लोग, लगे मकान बिकाऊ के पोस्टर

गौरतलब है कि ईडी ने पिछले दिनों गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट में कहा था कि पीएफआई ने अपने बैंक खाते से सीएए विरोधी प्रदर्शनों में संलिप्त कई लोगों को रुपए भेजे गए। पश्चिमी यूपी में ऐसे 73 बैंक खातों को चिन्हित किया गया था। ईडी रिपोर्ट में बताया गया था कि प्रमुख लेनदेन पीएफआई के दिल्ली स्थित मुख्य खाते से हुए। सूत्रों ने कहा कि एजेंसियां दिल्ली में पीएफआई मुख्यालय की गतिविधियों और उसके प्रदेश अध्यक्ष परवेज मुहम्मद की गतिविधियों को भी खंगाल रही हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Centre Ready To Ban PFI Link With Anti CAA Protest Violence