Centre Govt decided to withdraw SPG protection from the Gandhi family Sonia Gandhi Rahul Gandhi Priyanka Gandhi - बड़ा फैसला: सोनिया, राहुल-प्रियंका गांधी से वापस ली गई SPG सुरक्षा, अब मिली ये सिक्योरिटी DA Image
23 नवंबर, 2019|1:51|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बड़ा फैसला: सोनिया, राहुल-प्रियंका गांधी से वापस ली गई SPG सुरक्षा, अब मिली ये सिक्योरिटी

centre govt decided to withdraw spg protection from the gandhi family sonia gandhi rahul gandhi priy

गांधी परिवार की सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। सरकारी सूत्रों की मानें तो सरकार ने कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका गांधी की एसपीजी सुरक्षा वापस लेने का फैसला लिया है। केंद्र सरकार की ओर से अब गांधी परिवार को पूरे भारत में सीआरपीएफ की 'जेड प्लस' सुरक्षा दी जाएगी। 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के परिवार को दी गयी एसपीजी सुरक्षा वापस लेने का फैसला एक विस्तृत सुरक्षा आकलन के बाद लिया गया। लिट्टे के आतंकवादियों ने 21 मई 1991 को राजीव गांधी की हत्या कर दी थी। गांधी परिवार 28 साल बाद बिना एसजीपी सुरक्षा के रहेगा। उन्हें सितंबर 1991 में 1988 के एसजीपी कानून के संशोधन के बाद वीवीआईपी सुरक्षा सूची में शामिल किया गया था।
    
अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इकलौते शख्स होंगे जिन्हें एसपीजी सुरक्षा मिलती रहेगी। अधिकारी ने बताया कि गांधी परिवार की सुरक्षा सीआरपीएफ जवान करेंगे। जेड प्लस सुरक्षा में उन्हें अपने घर और देशभर में जहां भी वे यात्रा करेंगे, वहां के अलावा उनके नजदीक अर्द्धसैन्य बल के कमांडो की सुरक्षा मिलेगी।

नियमों के तहत एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों को सुरक्षाकर्मी, उच्च तकनीक से लैस वाहन, जैमर और उनके कारों के काफिले में एक एम्बुलेंस मिलती है। सरकार ने इस साल अगस्त में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा हटायी थी।

संसद द्वारा 1988 में लागू एसपीजी कानून को शुरुआत में केवल देश के प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्रियों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए बनाया गया था।

राजीव गांधी की हत्या के बाद पूर्व प्रधानमंत्रियों के करीबी परिजनों को इस सुरक्षा घेरे में शामिल करने के लिए कानून में संशोधन किया गया जिससे सोनिया गांधी के साथ-साथ उनके बच्चों को एसपीजी सुरक्षा मिलने का मार्ग प्रशस्त हुआ। देश में प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए अलग बल बनाने की जरूरत तब महसूस की गई जब 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गाधी की उनके अंगरक्षकों ने हत्या कर दी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Centre Govt decided to withdraw SPG protection from the Gandhi family Sonia Gandhi Rahul Gandhi Priyanka Gandhi